नई दिल्ली: मुंबई निवासी हामिद निहाल अंसारी पर पाकिस्तान के पेशावर जेल में तीन बार हमला हुआ है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस मामले में पहल करते हुए पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त को निर्देश दिया है कि वह भारतीय कैदी से मिलने के लिए राजनयिक पहुंच की मांग करें.
 
इनख़बर से जुड़ें एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
हामिद को 2012 में अफगानिस्तान से अवैध तरीके से पाकिस्तान में घुसने पर गिरफ्तार किया गया था. हामिद अंसारी कथित तौर पर एक लड़की से मिलने अफगानिस्तान से पाकिस्तान पहुंचा था, जिसके साथ उसकी ऑनलाइन दोस्ती हुई थी. उस पर पेशावर केंद्रीय कारागार में कैदियों ने हमला किया जिसमें वह घायल हो गया है.
 
सुषमा स्वराज ने अपने ट्वीट में कहा है कि “हामिद अंसारी पर बार-बार हमले की खबर को पढ़कर मैं व्यथित हूं. वह 2012 से पेशावर जेल में बंद है. यह अमानवीय है.’’
 
सुषमा ने कहा, ‘‘मैंने पाकिस्तान में अपने उच्चायुक्त से हामिद अंसारी से अस्पताल, जेल में राजनयिक पहुंच की अनुमति मांगने और इस बारे में जानकारी देने को कहा है.’’
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
 
31 वर्षीय अंसारी को जाली पाकिस्तानी पहचान पत्र रखने के लिए सैन्य अदालत ने तीन साल के कारावास की सजा सुनाई थी. अंसारी के वकील काजी मोहम्मद अनवर ने पेशावर उच्च न्यायालय की एक पीठ से गुरुवार को कहा था कि उनके मुवक्किल पर हाल के महीनों में जेल के कैदियों ने कम से कम तीन बार हमले किए गए हैं.