गांधीनगर. विजय रुपानी ने रविवार को गांधीनगर में गुजरात के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. राज्यपाल ओपी कोहली ने रुपानी को पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई. इसके साथ ही नितिन पटेल ने भी गुजरात के उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. विजय रुपानी की कैबिनेट में कुल 25 मंत्रियों को शामिल किया गया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रुपानी-पटेल के अलावा इन्होंने भी ली शपथ
 
रुपानी और नितिन पटेल के अलावा राजेंद्र सूर्यप्रसाद त्रिवेदी, केशाजी शिवाजी चौहान, जयद्रथ चंद्रसिंह परमार, ईश्वर सिंह ठाकुर, वल्लभभाई काकड़िया, जस्साभाई बारड़, बच्चूभाई थाबड़, भूपेंद्र सिंह चुड़ासमा, नानूभाई वानाणी, पुरुषोत्तम सोलंकी, जयंती भाई कबाड़िया, गणपत वासवा, शंकर भाई चौधरी, प्रदीप सिंह जाडेजा, दिलीप कुमार ठाकुर, जयेश रादड़िया, बाबू भाई बोखिरिया और चीमन सापरिया को रुपानी के मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है. इनमें से 8 को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है और 16 को राज्यमंत्री का.
 
 
शपथ ग्रहण समारोह में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवानी मौजूद थे. इसके अलावा बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी अपनी मौजूदगी दर्ज कराई.
 
आनंदीबेन ने दे दिया था इस्तीफा
 
गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के द्वारा इस्तीफा देने के बाद से ही गुजरात के नए सीएम पर चर्चा चल रही थी, जिसमें सीएम पद के लिए बीजेपी में चार नाम सामने आए थे. पुरुषोत्तम रुपाला, नितिन पटेल, सौरभ पटेल और विजय रुपानी. कुछ हलकों में अमित शाह का नाम भी उठा था लेकिन उसका कोई तुक बनता नहीं था. गुजरात की मौजूदा स्थिति और बीजेपी की ज़रुरत को देखते हुए प्रदेश अध्यक्ष विजय रुपानी ही वो थे जिनके नाम पर सहमति बन सकती थी. 
 
कौन हैं विजय रुपानी ?
 
नए सीएम बनने वाले विजय रुपानी ने छात्र नेता के रूप में अपना करियर स्टार्ट किया और 1971 में जनसंघ को ज्वाइन किया. फिलहाल वे राजकोट से विधायक हैं और इससे पहले बीजेपी महासचिव और राज्यसभा सांसद रह चुके हैं. 
 
Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
 
युवाओं में काफी लोकप्रिय रुपानी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का काफी करीबी माना जाता है. गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष होने के साथ-साथ गुजरात सरकार में ट्रांसपोर्ट मंत्री भी रहे हैं. विजय रुपानी सौराष्ट्र रीजन से आते हैं, जहां जैन-बनिया के समुदाय की काफी बड़ी संख्या है.