लखनऊ. बीएसपी प्रमुख मायावती को अपशब्द कहने वाले बीजेपी के पूर्व नेता दयाशंकर सिंह रविवार को जेल से रिहा हो गए हैं. उन्हें शनिवार को मऊ के कोर्ट से जमानत मिल गई थी. बता दें कि दयाशंकर को 29 जुलाई को यूपी STF ने बिहार के बक्सर से गिरफ्तार किया था. दयाशंकर सिंह को बक्सर के शुगर मील कॉलोनी से गिरफ्तार किया गया है. वह अपने एक परिजन के यहां छुपे हुए थे. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
पूर्व बीजेपी नेता दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह ने अपने परिवार के खिलाफ बीएसपी नेताओं की टिप्पणी को लेकर अब तक उनकी गिरफ्तारी न होने पर यूपी पूलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाया है. स्वाति सिंह ने आरोप लगाया कि यूपी पुलिस बीएसपी महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी को बचा रही है. स्वाति ने भी नसीमुद्दीन सिद्दीकी के खिलाफ पॉक्सो एक्ट लगाने की मांग की थी.
 
 
क्या कहा दयाशंकर सिंह
जेल से बाहर आने के बाद बीजेपी के पूर्व नेता दयाशंकर ने कहा कि मेरी वजह से मेरी बीवी स्वाति सिंह और बेटी दोनों सदमे में हैं, ये मेरे लिए दुख की बात है. सही वक्त आने पर मैं हर एक सवाल का जवाब दूंगा. बता दें कि दयाशंकर सिंह मऊ के जेल से रिहा होने के बाद सीधे लखनऊ के लिए रवाना हो गए हैं. 
 
 
दयाशंकर को बेल मिलने पर BSP भड़की
दयाशंकर सिंह को बेल मिलते ही BSP भड़क गई है, उसने इस फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट जाने का एलान कर दिया है. शनिवार को दयाशंकर सिंह को 50-50 हजार रुपए के दो निजी मुचलकों पर जमानत मिली थी.

 
 
क्या है मामला ? 
दयाशंकर सिंह ने मायावती की तुलना वेश्या से कर दी थी, जिसके बाद लोकसभा और राज्यसभा से काफी बवाल मच. इसके बाद बीजेपी ने दयाशंकर को 6 साल के लिए निकाल दिया है. इसके अलावा पार्टी ने प्रदेश बीजेपी उपाध्यक्ष पद से भी उन्हें हटा दिया है. यूपी में इस बीच उनके खिलाफ केस भी दर्ज कराया गया और  गैर जमानती वारंट भी जारी किया गया.