नई दिल्ली. देश की जनता भले ही बिजली कटौती से त्रस्त हो, लेकिन देश के ऊर्जा मंत्री का दावा है कि भारत में इस साल बिजली सरप्लस है. बिजली की कोई कमी नहीं है. ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल का दावा अधूरा सच है. बिजली उत्पादन करने वाली कंपनियों के पास सरप्लस बिजली है, क्योंकि राज्य सरकारें सप्लाई करने के लिए बिजली खरीदने से कतरा रही हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इंडिया न्यूज़-IPPAI की पड़ताल
केंद्र की मोदी सरकार 2022 तक देश के हर घर तक चौबीसों घंटे बिजली मुहैया कराने का अभियान चला रही है. क्या ये संभव है, इसी की तह तक जाने के लिए इंडिया न्यूज़ ने इंडिपेंडेंस पावर प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IPPAI) के साथ ‘उम्मीदों की रोशनी’ के नाम से सीरीज़ शुरू की है, जिसकी पहली कड़ी में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए. IPPAI देश में ऊर्जा क्षेत्र की पहली थिंकटैंक है, जो 1994 से भारत में ऊर्जा क्षेत्र की सच्चाई पर खुली बहस के लिए निष्पक्ष मंच के रूप में काम कर रही है.