मध्य प्रदेश. मध्यप्रदेश के जिला उज्जैन में एक अजीब तरह का फतवा जारी होने के बाद मदरसों को दिए जा रहे मिड डे मील के बीच धर्म आड़े आ गया है. यहां के मदरसों ने मिड डे मील के एक हिस्से को हिन्दू देवी देवताओं को चढ़ाए जाने वाला भोग बता कर उसे स्वीकार करने से इंकार कर दिया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
इस बारे में उनका कहना है कि उन्हें दिए जाने वाले मिड डे मील का एक हिस्सा ऐसा है जो हिन्दू अपने देवी देवताओं को भोग के तौर पर चढ़ाते हैं. इसके बाद से सरकार की ओर से स्कूलों में सप्लाई किए जाने वाले मिड डे मील को यहां के मदरसों ने लेने से साफ मना कर दिया है।
 
माना यह भी जा  रहा है कि क्योंकि उज्जैन में मिड डे मील पहुंचाने का काम श्री जगन्नाथ मंदिर इस्कॉन फूड संस्था द्वारा किया जाता था इसलिए यह मुद्दा उठा है. हालांकि श्री जगन्नाथ मंदिर इस्कॉन फूड संस्था का टेंडर खत्म  होने के बाद माँ पृथ्वी फ़ूड और देवास बीआरके फ़ूड अब यह काम कर रही हैं. बावजूद इसके यह फतवा निकाला गया है.
 
Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
 
इस बारे में मदरसा शिक्षा समिति के अध्यक्ष की माने तो मदरसों में पढ़ रहे बच्चों के अभिभावकों को इन जगहों से आ रहे खाने पर धार्मिक शंका है. अभिभावकों का ऐसा मानना है कि इन जगहों से आने वाला खाना पूजा पाठ और देवी देवताओं को भोग चढ़ा कर भेजा जाता है. ऐसे में इस मिड डे मील को खाने में उनका धर्म आड़े आ रहा है. 
 

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर