नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर के हालात को लेकर गर्वनर रूल लागू करने की मांग वाली याचिका पर केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट सौप दी है. रिपोर्ट में कहा गया है कि कश्मीर मे 8 जुलाई से शुरु हुई हिंसा में तीन अगस्त तक कुल 872 घटनाओं में 42 नागरिको की मौत हुई जबकि 2656 नागरिक जख्मी हुए हैं. इस दौरान 3783 सुरक्षाकर्मी घायल हुए जबकि दो सुरक्षाकर्मियों की मौत हुई.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रिपोर्ट में कहा गया है कि सबसे ज्यादा हिंसा दस जुलाई को हुई जब कश्मीर में 153 घटनाएं हुईं लेकिन अब हालात सुधर रहे हैं पहले 22 में से दस जिलों में कर्फ्यू था और अब सिर्फ तीन जगह श्रीनगर शहर, अनंतनाग शहर और पुलवामा में कर्फ्यू है. कश्मीर में दवाओं, इमरजेंसी चिकित्सा सेवा, खाद्य सामग्री और बाकी सेवाएं सुचारू रूप से चल रहीं हैं. वहीं अमरनाथ यात्रा पर केंद्र की रिपोर्ट में कहा गया है कि यात्रा अभी चल रही है और अब तक 211707 यात्री दर्शन कर चुके हैं.
 
क्या कहा है याचिका में ?
दरअसल सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा कहा गया है कि जम्मू कश्मीर में पिछले दो हफ्ते से रूल ऑफ गन चल रहा है. लोग घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे, राज्य में जैसे मार्शल ला चल रहा है. लोग जेल कैदियों से भी बदतर हालात में रह रहे हैं, उनके पास ना खाना है, नलों में पानी नहीं है और दवा तक नहीं है. राज्य में नागरिकों के मौलिक अधिकारों का हनन हो रहा है.
 
Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
 
याचिका में मांग की मांग की गई की सुप्रीम कोर्ट जम्मू कश्मीर के राज्यपाल को निर्देश दे कि वो राज्य के संविधान के सेक्शन 92 के तहत सारा प्रशासनिक कामकाज अपने हाथों में ले लें ताकि राज्य में सुरक्षा बहाल हो और नागरिकों के मौलिक अधिकारों की रक्षा हो सके. साथ ही राज्यपाल को विधानसभा भंग करने के निर्देश दिए जाएं क्योंकि वो वर्तमान हालात में अपनी दायित्व निभाने में नाकाम रही है. सरकार को अमरनाथ यात्रा पर लगाई रोक हटाने के आदेश जारी हों.