नई दिल्ली. मुंबई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड और आतंकवादी संगठन जमात उल दावा का प्रमुख हाफिज सईद अपने नापाक इरादों के साथ वाघा बार्डर के पास तक पहुंच गया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दरअसल हाफिज सईद ने हिजबुल मजाहिदीन कमांडर बुरहान वानी एमकाउंटर को लेकर पाकिस्तान में चले रहे जमात-ए-इस्लामी के भारत विरोधी मार्च में हिस्सा लिया जो कि रविवार को वाघा बॉर्डर के नजदीक तक पहुंच गया था. जमात-ए-इस्लामी की ओर से बुलाए गए इस मार्च में हिजबुल चीफ सैयद सलाउद्दीन भी मौजूद था.
 
 
बॉर्डर से महज 8 किलोमीटर दूर मार्च
रिपोर्ट्स के अनुसार को भारत विरोधी यह मार्च वाघा बॉर्डर से महज 8 किलोमीटर दूर बाटापुर तक पहुंच चुका था. इसके अलावा हाफिज सईद समेत पाकिस्तान समर्थक कई आतंकियों के इस मार्च में  शामिल होने की वजह से बीएसएफ ने अटारी इंटरनैशनल बार्डर और इसके आस-पास के गांव में सुरक्षा व्यवस्था और भी बढ़ा दी है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
मार्च में भारत के खिलाफ उगला जहर
इसके अलावा जमात-ए-इस्लामी के इस मार्च के जरिए भारत के खिलाफ जमकर जहर उगला गया. इस मार्च को मार्च फॉर कश्मीर का नाम देते हुए भारत के कश्मीर मुद्दे को लेकर निशाना साधा गया है. इतना ही नहीं मार्च के दौरान वी हेट इंडियन और वी आर वानी जैसे बैनर भी देखने को मिले.