चंडीगढ़. धर्मग्रंथ की बेअदबी के मामले में महरौली से आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक नरेश यादव को पंजाब के संगरूर कोर्ट से जमानत मिल गई है. रिपोर्ट्स के मुताबिक नरेश पर सांप्रदायिकता के नाम पर दंगा भड़काने का आरोप है. आप नेताओं का कहना है कि नरेश यादव पूरी तरह पाक साबित होंगे. बता दें कि यादव 24 जुलाई को पंजाब पुलिस ने दिल्ली से गिरफ्तार किया था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
पुलिस का कहना है कि धर्मग्रंथ की बेअदबी के मामले में नरेश यादव के शामिल होने के पुख्ता सबूत हैं. वहीं नरेश यादव के वकील शेरगिल का कहना है कि पुलिस के पास ऐसा कोई सबूत नहीं है जिससे साबित हो सके कि मेलकोटला बेअदबी मामले में यादव का हाथ है. पुलिस को यादव के खिलाफ कुछ भी हाथ नहीं लगा है. पुलिस यह सब बादल सरकार के कहने पर कर रही है.
 
क्या है मामला? 
24 जून की खन्ना रोड पर स्थित कब्रिस्तान के पास देर रात गाड़ी में सवार लोग धर्मग्रंथ के पन्नों को फेंकते हुए चले गए थे. वहां गुस्साए लोगों ने बस स्टैंड में खड़ी दो बसों को आगे के हवाले कर दिया. वहीं उग्र भीड़ ने अकाली विधायक फरजाना आलम के घर पर भी हमला कर दिया था. पुलिस ने इस मामले में तीन मामले दर्ज किए थे. दो मामलों में पुलिस ने 4 सौ लोगों पर मामला दर्ज किया था.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
पुलिस ने बेअदबी मामले में मास्टरमाइंड करोड़ पति विजय कुमार सहित नंद किशोर उर्फ गोल्डी और उसके बेटे गौरव को गिरफ्तार किया था. जिसके बाद पुलिस पूछताछ में विजय कुमार ने आप विधायक नरेश यादव का नाम लिया था. पंजाब पुलिस ने यादव 24 जुलाई को दिल्ली से गिरफ्तार किया था.