नई दिल्ली. कश्मीर के कुपवाड़ा में जिंदा पकड़े गए आतंकी सैफुल्लाह ने NIA पूछताछ में बड़ा खुलासा किया है. आतंकी सैफुल्लाह उर्फ बहादुर अली ने कहा, ‘मैं हिंदुस्तानियों को मारने आया था, मुझे हिंदुस्तानियों से नफरत है’. बहादुर अली ने बताया कि वह एक बार POK में हाफिज सईद से मिला था. मुझे हाफिज सईद ने भारत हमले के लिए भेजा था. बहादुर के मुताबिक लश्कर के रंगरूट हाफिज को चाचा बुलाते हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रिपोर्ट्स के अनुसार भारत अब बहादुर अली के इस कबूलनामे को पाकिस्तान के सामने उठा सकता है. बहादुर अली ने NIA पूछताछ में बताया कि भारत में घुसपैठ करने के बाद उसके तीन साथी एनकाउंटर में मार दिए गए थे और हम लोग स्थनाीय मदद से भारत मे दाखिल हुए थे. तीन साथियों की मौत के बाद वह सैटलाइट फोन से पाकिस्तान में वालिद नाम के एक शख्स के साथ संपर्क में था. 
 
 
वालिद उसे उसके आगे के एक्शन के बारे में लगातार गाइड कर रहा था. वालिद ने उसे ए3 उर्फ ड्राइवर का कोड मिला था. डॉक्टर और नर्स कोडवर्ड वाले दो लोगों से मुलाकात करने के लिए कहा था. ये कोडवर्ड एक पुरुष और एक महिला  के थे. एनआईए ने इन दोनों के ही मोबाइल नंबरों को ट्रैक कर लिया है और अलग अलग वॉट्सऐप नंबर की जानकारी भी जुटा ली है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
बता दें कि आतंकी बहादुर अली ने यह भी बताया है कि उसने पाकिस्तान में आतंकी ट्रेनिंग ली है और लश्कर ने उसे भारत भेजा है. बहादुर अली एनआईए की कस्टडी में है और एनआईए उसे पूछताछ के लिए दिल्ली लेकर आई है. बहादुर अली का कबूलनामा मोबाइल पर रिकॉर्ड है. जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में सेना से मुठभेड़ के दौरान बहादुर अली पकड़ा गया था.