नई दिल्ली. भारतीय सेना के आठ डॉक्टरों ने सुप्रीम कोर्ट में शरण ली है. डॉक्टरों ने कोर्ट में याचिका दाखिल कर मांग की है कि उनके 29 जुलाई को हो रहे रिटायरमेंट पर रोक लगाई जाए. साथ ही उन्होंने यह भी मांग कि उनके रिटायरमेंट की उम्र सीमा 65 साल की जाए.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
याचिका में आगे कहा गया है कि केंद्र सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने 31 मई 2016 को नोटिफिकेशन जारी कर कहा था कि केंद्र सरकार के विभागों में काम करने वाले डॉक्टर 65 साल की उम्र में रिटायर होंगे. लेकिन सेना में उन्हें 29 जुलाई को 58 साल की उम्र में रिटायर किया जा रहा है. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
जबकि BSF, CRPF, ITBP, CISF, NSG जैसे बलों में रिटायरमेंट की उम्र 65 साल कर दी गई है. लेकिन सेना में ये नियम अभी लागू नहीं किया गया. इसलिए उनकी रिटायरमेंट पर रोक लगाई जाए और समानता के आधार पर रक्षा मंत्रालय के डाक्टरों की रिटायरमेंट की उम्र 65 साल की जाए. सुप्रीम कोर्ट इस याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया है और मामले अगली सुनवाई 29 जुलाई को होगी.