नई दिल्ली. भारत और अमेरिका की प्रमुख रक्षा कंपनी बोइंग ने चार अतिरिक्त जासूसी विमान “पोसिडोन-8आइ” खरीदने के लिए एक अरब डॉलर का सौदा किया है. लंबी दूरी का यह निगरानी विमान पनडुब्बी ध्वस्त करने वाला युद्धक विमान भी है. इस सौदे का मकसद हिंद महासागर में चीन की गतिविधियों की निगरानी करना है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रक्षा सूत्रों ने अनुसार यह अनुबंध भारत द्वारा कंपनी से 2.1 अरब डॉलर की लागत से पहले ही खरीदे गए आठ पी-8I विमान के अतिरिक्त है. उन्होंने बताया कि अनुबंध पर हस्ताक्षर खरीद मामलों पर अमेरिका के अवर रक्षा सचिव फ्रैंक केंडल की यात्रा के दौरान किया गया और इसे बढ़ते भारत-अमेरिकी रक्षा संबंधों के संकेत के तौर पर देखा जा रहा है. उन्होंने कहा कि भारत ने पिछले साल विदेश सैन्य बिक्री मार्ग के जरिये तीन अरब डॉलर की लागत से 22 अपाचे और 15 चिनूक हेलिकॉप्टरों की खरीद के लिए अनुबंध पर हस्ताक्षर किया था.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
भारत में बोइंग डिफेंस की प्रवक्ता अमृता ढींढसा ने कहा कि यह विमान न सिर्फ निगरानी के काम आएंगे बल्कि इन्हें पनडुब्बियों को मार गिराने के लिए हारपून मिसाइलों से भी लैस किया गया है. इसके अलावा विमान में हल्के तारपीडो, रॉकेट आदि भी हैं. इस विमान की उपलब्धता के साथ भारतीय नौसेना अब समुद्र में पैराशूट गिराकर भी निगरानी और लापता विमानों का खोजी अभियान कर सकेगी. फिलहाल भारतीय वायुसेना छोटे पैराशूट गिराकर लापता विमान एनएन32 की तलाश कर रही है.