नई दिल्ली. राज्यसभा से इस्तीफा देने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा कि मुझे पंजाब से दूर रहने के लिए कहा गया था, इसलिए राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया. सिद्धू ने कहा कि दुनिया की कोई भी पार्टी पंजाब से बड़ी नहीं है. उन्होंने आगे कहा कि जहां पंजाब का हित पाएंगे आप लोग वहां मुझे पाएंगे. बता दें कि उन्होंने 18 जुलाई को राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बीजेपी से नाराजगी तो उन्होंने जाहिर कर दी लेकिन अपनी आगे की रणनीति को बारे कोई इशारा नहीं किया. सिद्धू ने कहा कि मैं किसी भी नफा नूकसान के लिए तैयार हूं. पक्षी भी अपना पेड़ नहीं छोड़ते तो मैं कैसे पंजाब से दूर चला जाता. मैं अपने लोगों का साथ कभी नहीं छोड़ सकता. सौ बार अगर मुझे परिवार, पार्टी और पंजाब में से किसी एक को चुनना पड़ा तो मैं सौ बार पंजाब को ही चुनूंगा.
 
 
सिद्धू ने कहा कि मुझसे एक दो बार नहीं कम से कम तीन-चार बार कहा गया कि तुम पंजाब की तरफ मुंह भी नहीं करोगे. जिन लोगों ने मुझे MP बनाया उन लोगों का साथ सिद्धू कभी नहीं छोड़ सकता. मैं पंजाब के लिए हमेशा खड़ा रहूंगा और पंजाब और अमृतसर के लिए काम करता रहूंगा. उन्होंने कहा कि जब बीजेपी की स्थिति पंजाब में ठीक नहीं थी तो किस तरह से उन्होंने पार्टी को मजबूत बनाया था. 
 
 
नवजोत सिंह सिद्धू प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीएम नरेंद्र मोदी पर भी इशारों ही इशारों में निशाना साधा. उन्होंने कहा कि अमृतसर से पहला चुनाव जब मैंने लड़ा था तो मात्र 17 दिन शेष थे चुनाव में और मुझसे कहा गया कि चुनाव लड़ें, तब मैं पाकिस्तान में कमेंट्री कर रहा था मैंने मना किया, तो वाजपेयी साहब ने फोन किया और मैं चुनाव लड़ा और जीता. यहां कि जनता ने चार बार मुझे जिताया. लेकिन जब मोदी लहर आयी, तो मुझे डुबो दिया गया. मुझसे कहा गया कि आप अमृतसर से चुनाव नहीं लड़ेंगे, आखिर क्यों? इसका जवाब मुझे आज तक नहीं दिया गया.