श्रीनगर. आतंकी सगंठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का कमांडर बुरहान वानी जम्मू-कश्मीर पुलिस ने एनकाउंटर में मारे जाने के बाद कश्मीर में जारी तनाव को कम करने के प्रयास के तहत गृह मंत्री राजनाथ सिंह दो दिन के कश्मीर दौरे पर श्रीनगर पहुंचे हैं. कश्मीर व्यापारियों ने राजनाथ से मिलने से इंकार कर दिया, वहीं राजनाथ सिंह ने शिकारा और हाउसबोट के मालिकों से मुलाकात कर अपनी समस्याएं साझा की. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान राजनाथ सिंह जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और राज्यपाल एन.एन. वोहरा से भी मिले. राजनाथ सिंह ने राज्य के अधिकारियों के साथ बैठक की और सिविल सोसायटी और राजनीतिक दलों के नेताओं के से भी मिले. 
 
 
राजनाथ सिंह ने नेहरू गेस्ट हाउस में घाटी में मौजूदा स्थिति पर चर्चा करने के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों, नागरिक समाज के सदस्यों सहित कई स्थानीय प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकातें की. हालांकि कश्मीर व्यापारियों ने राजनाथ से मिलने से इंकार कर दिया और राज्य सरकार को जम्मू के व्यापारियों को आनन फानन में हवाई मार्ग से कश्मीर लाकर उनसे मुलाकात करवानी पड़ी. वहीं गृहमंत्री ने शिकारा और हाउसबोट के मालिकों से मुलाकात कर समस्याएं साझा की. गृहमंत्री ने उन्हें हर संभव मदद की बात कही है.
 
 
गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि हमें भरोसा है हम कश्मीर में हालात सुधारने में सफल रहेंगे. गृह मंत्री पैलेट गन का विकल्प ढूंढने के लिए पहले ही एक विशेषज्ञ समिति के गठन की घोषणा कर चुके हैं. कश्मीर में हालात को नियंत्रण में लाने के लिए इस गन का इस्तेमाल गया था, जिसकी काफी आलोचना हुई.
 
 
बता दें कि कश्मीर में 15 दिन बाद भी 10 जिलों में कर्फ्यू जारी है. बुराहान के मारे जाने के बाद श्रीनगर में अलगावादियों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया. इस विरोध प्रदर्शन में सुरक्षाबलों और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प में 55 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है और 4000 के करीब लोग घायल हो गए हैं.