नई दिल्‍ली. आम आदमी पार्टी ने भारतीय जनता पार्टी सरकार के एक साल पूरे होने पर इसे पुण्‍यतिथि करार देते हुए मोदी सरकार के खिलाफ जंतर-मंतर पर प्रदर्शन शुरू कर दिया है. आप के प्रदर्शनकारी जंतर-मंतर पर प्रदर्शन के बाद संसद की ओर कूच कर गये हैं. आप समर्थकों का आरोप है है कि नरेंद्र मोदी सरकार प्रत्‍यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआइ) पर अपने रुख पर कायम नहीं रहा. सरकार ने एफडीआइ के मुद्दे पर यू टर्न ले लिया है और देश की जनता को छलने का काम किया है.

आप समर्थक भाजपा सरकार की आलोचना के नारे लगा रहे हैं. आप का आरोप है कि भाजपा किसानों के मुद्दे पर भी पीछे हट चुकी है. भूमि अधिग्रहण कर सरकार किसानों को मारना चाहती है. आप का आरोप है कि सरकार ने क्रुड ऑयल के दामों में 40 फीसदी तक की गिरावट के बाद भी पेट्रोल और डीजल के दामों पर नियंत्रण नहीं रखा. सरकार की ओर से केवल कागजों पर ही महंगाई नियंत्रण में दिख रही है. असल में बात कुछ और है. आम आदमी आज महंगाई से त्रस्‍त है.

प्रधानमंत्री देश के नागरिकों की सुध छोड़कर विदेश दौरों में व्‍यस्‍त हैं. आम आदमी पार्टी का आरोप है कि कश्‍मीर में पीडीपी के साथ गंठबंधन करके भी भाजपा ने वहां की जनता को धोखा देने का काम किया है. सरकार कश्‍मीर में धारा 370 हटाने के मुद्दे पर भी अब खामोश हैं. सरकार के एक साल पूरे होने पर भाजपा के दिग्‍गज नेता उपलब्धियां गिना रहे हैं लेकिन आप इसे पुण्‍यतिथि के रूप में देख रही है.  

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों सें दिल्‍ली सरकार और दिल्‍ली में उपराज्‍यपाल नजीब जंग के बीच विवाद गहराता जा रहा है. मुख्‍य सचिव की नियुक्ति पर एलजी और दिल्‍ली सरकार आमने-सामने आ चुके हैं. इसी दौरान गृह मंत्रालय की ओर से जारी एक अधिसूचना में दिल्‍ली सरकार और एलजी की शक्तियों का उल्‍लेख किया गया है.

जिसका आम आदमी पार्टी ने कड़े शब्‍दों में विरोध किया है. इतना ही नहीं दिल्‍ली सरकार ने अधिसूचना पर विचार के लिए विधानसभा का विशेष सत्र भी बुला लिया है. दो दिनी सत्र के पहले दिन अधिसूचना के खिलाफ प्रस्‍ताव लाया गया है आज भी दोपहर दो बजे से सत्र में अधिसूचना पर ही चर्चा होगी. इस दौरान आप का विरोध प्रदर्शन मोदी सरकार पर एक बड़ा हमला हो सकता है.

IANS से भी इनपुट