नई दिल्ली. UP बीजेपी उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह द्वारा BSP सुप्रीमो मायावती की तुलना वेश्या से करने पर राज्यसभा में हंगामा खड़ा हो गया. चौतरफा निंदा के बीच सरकार की तरफ से वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अपनी पार्टी के नेता के बेहूदा बयान के लिए खेद जताया और कहा कि बीजेपी बयान की जांच के बाद कार्रवाई करेगी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मायावती ने सदन में इस मामले को उठाते हुए कहा कि अपने राजनीतिक जीवन में उन्होंने कभी किसी भी पार्टी के नेता के खिलाफ इस तरह की अशोभनीय भाषा का इस्तेमाल नहीं किया है और बीजेपी नेता का यह बयान दिखाता है कि यूपी में बीएसपी को मिल रहे जनसमर्थन से बीजेपी हताशा में डूब रही है.
 
मायावती के साथ-साथ पार्टी के नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने भी राज्यसभा में बीजेपी नेता दयाशंकर सिंह को बीजेपी से निकालने और कानूनी कार्रवाई करने की मांग उठाते हुए कहा कि इस तरह के हालात में अगर कोई प्रदर्शन या हिंसा होती है तो उसकी जवाबदेही पूरी तरह से बीजेपी की होगी.
 
मायावती के खिलाफ बीजेपी नेता के असंसदीय बयान की सदन में सभी दलों के नेताओं से एक स्वर से भर्त्सना की और सदन की राय में शामिल होते हुए सरकार की तरफ से अरुण जेटली ने कहा कि बीजेपी के एक नेता की तरफ से इस तरह के बयान से वो निजी तौर पर दुखी हैं. जेटली ने कहा कि बयान की जांच करवाकर कार्रवाई की जाएगी.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
असल में बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि एक वेश्या भी किसी से पैसा ले लेती है तो कमिटमेंट पूरा करती है लेकिन मायावती किसी को 1 करोड़ में टिकट दे भी दें और 2 करोड़ देने वाला मिल जाए तो उससे टिकट वापस लेकर ज्यादा पैसा देने वाले को दे देती हैं.