नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस बात पर नाराज़गी जताई है कि शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई अंतरराज्यीय परिषद की बैठक में कुछ मुख्यमंत्रियों को मोबाइल फोन ले जाने दिया गया जबकि उन्हें, ममता बनर्जी समेत कुछ सीएम का मोबाइल फोन बाहर रखवा लिया गया.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
केजरीवाल ने दिल्ली के कॉन्स्टीट्यूशन क्लब में मंगलवार शाम को एक पुस्तक ‘अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी’ के विमोचन के दौरान ये दावा किया.. 
 
‘कुछ सीएम को अंदर फोन ले जाने दिया गया, कुछ को नहीं’
 
केजरीवाल ने बताया कि कुछ मुख्यमंत्रियों को बैठक के अंदर मोबाइल फोन ले जाने की अनुमति दी गई थी जबकि कुछ को अपने फोन अंदर ले जाने की इजाजत नहीं दी गई. उनके फोन बाहर रखवा लिए गए जो काफी विचित्र था.
 
क्या उनसे सुरक्षा को खतरा है?
 
केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने अपने भाषण में भी इस मुद्दे को पीएम मोदी के सामने उठाया था और प्रधानमंत्री से पूछा था कि क्या कुछ मुख्यमंत्रियों से उनकी सुरक्षा को खतरा है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
ममता बनर्जी को भी मोबाइल ले जाने से रोका गया था: केजरीवाल
 
केजरीवाल ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी मोबाइल फोन अंदर ले जाने से रोका गया था जिस पर उन्होंने तीखी आपत्ति जताई थी.
 
ममता ने विरोध में साफ-साफ कह दिया था कि अगर उन्हें मीटिंग में मोबाइल फोन ले जाने की इजाजत नहीं दी गई तो वे मीटिंग से ही चली जाएंगी जिसके बाद उन्हें फोन ले जाने की इजाजत दी गई.