अयोध्या. बाबरी मस्जिद मामले के मुख्य पैरोकार हाशिम अंसारी का 96 साल की उम्र में अयोध्या में निधन हो गया है. हाशिम अंसारी लंबे समय से बढ़ती उम्र के कारण बीमार चल रहे थे जिसके बाद मंगलवार देर रात उन्होंने अंतिम सांस ली. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अंसारी की तबियत फरवरी 2016 से ही काफी खराब हो गई थी, हाशिम के सीने में तेज दर्द की शिकायत थी. डॉक्टरों ने बताया था कि उनके सीने में संक्रमण है. करीब एक साल पहले उन्होंने दिल की बिमारी का इलाज करवाया था और पेसमेकर लगावाया था.
 
 
साल 1949 से लेकर तकरीबन 60 सालों से वो बाबरी मस्जिद के लिए मुस्लिम पक्ष की पैरवी कर रहे थे. इस बाबत उन्होंने कई बार कोर्ट से बाहर जाकर भी हिन्दू धर्मगुरूओं से मिल मामले को सुलझाने का प्रयास किया हालांकि उन प्रयासों के नतीजे नहीं निकले.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
कौन हैं हाशिम अंसारी?
उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में रहने वाले हाशिम अंसारी उस समय मशहूर हुए थे जब उन्होंने ढाई दशक पहले बाबरी मस्जिद गिराए जाने के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की थी और कोर्ट पहुंचे थे. हाशिम अंसारी तब से लगातार यह केस लड़ रहे हैं. खास बात यह है कि यह पूरा केस वे अपने दम पर लड़ रहे हैं. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जब पांच साल पहले राम लल्ला और बाबरी मस्जिद के लिए जमीन बांटने की बात कही थी, तब भी हाशिम चर्चा में आए थे. बाबरी केस अब भी सुप्रीम कोर्ट में है.