नई दिल्ली. संसद के मॉनसून सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है. सत्र शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि सरकार हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है. सभी दल देश हित के लिए सहयोग दें और संसद में देश को दिशा देने का काम हो. उन्होंने आगे कहा कि देश को गति देने के लिए संसद में चर्चा जरूरी है.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

उन्होंने कहा कि देश के विकास के लिए सभी दलों का सहयोग देने की उम्मीद है. देश की आजादी के 70वीं साल का महत्वपूर्ण पड़ाव है और 15 अगस्त से पहले ये सत्र हो रहा है. इसलिए आजादी के लिए जीवन न्यौछावर करने वाले सभी महापुरुषों का याद करते हुए इस सत्र में इस 70 साल की यात्रा को एक नई उंचाई देने के लिए, एक नई गति देने के लिए बहुत ही उत्तम स्तर की चर्चा हो. 

उन्होंने आगे कहा कि संसद में बहुत ही महत्वपूर्ण निर्णय हों तेज गति से देश आगे बढ़े. इसके लिए सब मिलकर कधे से कंधा मिलाकर संसद में देश को दिशा देने का काम हो. मुझे विश्वास है सभी दलों से पिछले कई दिनों से सबसे अलग-अलग बातें हो रही हैं कईयों से सामूहिक बातें भी हुई हैं. और इससे यही भाव प्रकट होता है कि हर किसी का मूड अच्छे से अच्छे निर्णय करने का है. तेज गति से देश को आगे बढ़ने का है. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
आज स्थगित हो सकती है संसद !
बताया जा रहा है कि सत्र के पहले दिन दलपत सिंह परास्ते को श्रद्धांजलि देने के बाद लोकसभा की कार्यवाही स्थगित  हो जाएगी. बता दें कि एक जून को मध्यप्रदेश के शहडोल से लोकसभा सांसद परास्ते का निधन हो गया था. पांच बार सांसद रहे 66 वर्षीय परास्ते को उस समय ब्रेन हेमरेज हो गया था जब वह एक सार्वजनिक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. एक निजी अस्पताल में उपचार के दौरान उनका निधन हो गया. स्थापित परंपरा के अनुसार, दो सत्रों के बीच जिन सांसदों का निधन होता है, उन दिवंगत सदस्य को सत्र के पहले दिन श्रद्धांजलि देने के बाद कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित हो जाती है.