नई दिल्ली. झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने कुछ वीडियो और ऑडियो टेप जारी करते हुए आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री रघुबर दास खुद 11 जून को राज्य की दो राज्यसभा सीटों के लिए हुए चुनावों में विधायकों की खरीदफरोख्त में शामिल थे. मरांडी ने दास पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें अपने पद से तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए.
 
नख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मरांडी ने रघुबर दास की बड़कागांव से कांग्रेस के पूर्व विधायक योगेंद्र साव से बातचीत का कथित वीडियो और मुख्यमंत्री के एक सहयोगी और एक आईपीएस अधिकारी की योगेंद्र साव से लगातार हुई बातचीत का ऑडियो टेप जारी किया. मरांडी ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री खुद योगेंद्र साव से बातचीत कर उनकी विधायक पत्नी निर्मला देवी का वोट बीजेपी उम्मीदवार के पक्ष में तोड़ने की कोशिश करते रहे.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
ऑडियो में एडीजीपी अनुराग गुप्ता यह कहते सुने जा रहे हैं कि अभी सरकार तीन साल तक रहेगी. साथ ही यह कन्विंस करने का प्रयास किया जा रहा है कि वो रघुबर सरकार के साथ रहे. हालाकि इसमें पैसे का कही जिक्र नहीं है. मरांडी ने मुख्यमंत्री पर खुद विधायकों की खरीदफरोख्त में शामिल होने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि इसके पुख्ता सबूत सामने आने के बाद अब उन्हें नैतिक आधार पर फौरन अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए. उन्होंने मामले की सीबीआई जांच की भी मांग की.