नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जहां महिलाओं को सशक्त करने पर बल देते आ रहे हैं, वहीं दूसरी ओर एयरफोर्स ने महिलाओं को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी देने पर उदासीनता दिखाई है. 26 जनवरी 2015 के दिन अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा को गार्ड ऑफ ऑनर देने वाली पूजा ठाकुर को एयरफोर्स ने स्थायी कमीशन देने से मना कर दिया है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इस मामले को लेकर विंग कमांडर पूजा कोर्ट में पहुंच गई हैं. पूजा ने एयरफोर्स के इस रवैये को भेदभावपूर्ण, पक्षपातपूर्ण, मनमाना और बेतुका बताया है. परमानेंट कमीशन का मतलब होता है रिटायरमेंट तक सेवा में बने रहना.
 
रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी आर्मी में महिलाओं को बड़ी भूमिका देने का पक्ष लिया था. उन्होंने हाल ही में कहा था कि सेना में महिलाओं को बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी. 
 
बता दें कि ओबामा को ऑनर देकर पूजा ने एक नया रिकॉर्ड कायम किया था. उन्होंने ऑनर देने वाली टुकड़ी का नेतृत्व किया था.  वह राष्ट्रपति भवन में किसी राजकीय मेहमान को दिए गए गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करने वाली पहली महिला अधिकारी बनी थीं.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
पूजा की दृढ़ता से खुद ओबामा भी प्रभावित हो गए थे. उन्होंने कहा था कि गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करने वाली महिला ऑफिसर गर्व और ताकत की मिसाल है.