मुंबई. अपने विवादित भाषणों से आतंक को बढ़ावा देने के आरोपी इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के अध्यक्ष जाकिर नाईक सोमवार को भारत लौट रहे हैं. मुंबई पुलिस ने उनके घर की सुरक्षा बढ़ा रखी है. लेकिन वह उन पर कोई भी कार्रवाई बहुत ही सधे कदमों से करना चाहती है. कई मुस्लिम संगठन मुंबई एयरपोर्ट पर जाकिर नाइक का विरोध करेंगे.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि ढाका में एक जुलाई को हुए आतंकवादी हमलों में 22 लोग मारे गए थे. इस हमले को अंजाम देने वाले आतंकियों में एक जाकिर नाईक के भाषणों से प्रेरित बताया गया था.
 
 
भारत के विवादास्पद इस्लामिक उपदेशक ज़ाकिर नाइक के टीवी चैनल ‘पीस टीवी’ पर बांग्लादेश ने प्रतिबंध लगा दिया है. समाचार एजेंसी के मुताबिक बांग्लादेश के उद्योग मंत्री आमीर हुसैन अमू की अध्यक्षता में रविवार को हुई एक बैठक में ये फैसला लिया गया.
 
 
आमिर हुसैन अमू ने बताया कि बांग्लादेश में शुक्रवार को नमाज़ के दौरान दिए जाने वाले भाषणों की भी निगरानी की जाएगी ताकि ये देखा जा सके कि भड़काऊ भाषण तो नहीं दिए जा रहे.  पीस टीवी पर बैन का फैसला इन ख़बरों के लिया गया है कि ढाका में पिछले दिनों एक कैफे में हुए हमले को अंजाम देने वालों में कुछ जाकिर नाइक से प्रेरित थे.
 
 
इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग तो खुलकर राज्य की बीजेपी सरकार के विरोध में आ गई है. उसके राष्ट्रीय सचिव शहंशाह जहांगीर कहते हैं कि बीजेपी और शिवसेना की सरकार आईआरएफ जैसे मुस्लिम संगठनों को जांच के नाम पर परेशान करने का रास्ता ढूंढ रही है. वह आगे कहते हैं कि यह सिर्फ डॉ. जाकिर नाईक का सवाल नहीं है. भारतीय मुस्लिमों पर आतंकवाद से संबंध रखने का आरोप लगाकर उन्हें गिरफ्तार करने और परेशान करने का चलन बन गया है.