नई दिल्ली. आतंकियों को प्रेरित करने के आरोपी जाकिर नाईक पर सरकार ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. सरकार जाकिर के भाषणों की सीडी से लेकर बैंक खातों की जांच में जुट गई है. इसके साथ-साथ नाईक के एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (IRF) को विदेशों से मिलने वाले फंड की जांच भी शुरू हो गई है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
 
सरकार ने इससे पहले जाकिर के टीवी चैनल पीस टीवी के प्रसारण पर भी सख्त कदम उठाए थे. सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू ने बैठक बुलाई थी, जिसमें बिना लाइसेंस वाले टीवी चैनलों पर सख्त कार्रवाई की बात कही गई थी.
 
सरकार ने कहा था कि जो चैनल बिना लाइसेंस वाले हैं उनका प्रसारण नहीं किया जाएगा और अगर उनका प्रसारण केबल ऑपरेटर्स करते हैं तो उनके खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जाएगी.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
बता दें कि विवादित धर्म प्रचारक जाकिर नाईक हाल में तब सुर्खियों में आए, जब खुलासा हुआ कि ढाका के चर्चित कैफे पर एक जुलाई को हमला करने वाले आतंकियों में दो उनके भाषणों से प्रेरित हुए थे.