नई दिल्ली. ढाका में हमला करने वाले आतंकियों के प्रेरणास्त्रोत के रूप में नाम सामने आने के बाद भारतीय मुस्लिम धर्मगुरु जाकिर नाइक का आतंकियों को लेकर सफाई दी है. नाइक ने कहा कि इस्लामिक स्टेट नाम से उन्हें बुलाकर हम लोग इस्लाम की निंदा कर रहे हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि वे लोग इस्लाम के खिलाफ काम करने वाले लोग हैं. यह नाम इस्लाम के दुश्मनों ने रखा है. बता दें कि जाकिर का कई देशों में जाना बैन है. इस पर उन्होंने कहा कि ऐसा करवाने के पीछे हिंदू कट्टरपंथी हैं.
 
हमलें के 2 आतंकी नाइक के अनुयायी !
बांग्लादेश में आतंकी हमला करने वाले दो युवक नाइक के अनुयायी बताए जा रहे हैं. रिपोर्ट्स के अनुसार यह आतंकी जाकिर के भाषण सुना करते थे. इसके अलावा बांग्लोंदश में शामिल सत्तागधारी अवामी लीग के राजनेता के बेटे रोहन इम्तियाज ने पिछले साल फेसबुक पर नाइक का एक संदेश पोस्ट किया था. जिस पर सफाई देते के लिए उन्होंने यह बात कही. 
 
‘सभी मुस्लिमों को आतंकी होना चाहिए’
बता दें कि नाइक का विवादों से पुराना नाता रहा है. जाकिर ने मुंबई में एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि सभी मुस्लिमों को आतंकी होना चाहिए. जिसके बाद जाकिर नाइक को ब्रिटेन में प्रवेश से प्रतिबंधित किया गया था और यही संदेश इम्तियाज ने भी पोस्ट किया था. 
 
जाकिर ने दी सफाई
जाकिर ने आगे सफाई देते यह बताया कि फेसबुक पर उन्हें फॉलो करने वाले सबसे ज्यादा लोग बांग्लादेश के ही हैं. उनका दावा है कि 90 प्रतिशत बांग्लादेशी उन्हें जानते हैं. इनमें नेता, समाजसेवी और आम नेता सब शामिल हैं. उन्होंने कहा इस वजह से उन्हें यह जानकर हैरानी नहीं हुई कि हमला करने वाला उन्हें जानता था. इसके अलावा डॉक्टर नाइक के संगठन इस्लामिक रिसर्च फाइंडेशन ने सफाई दी है कि उनके बयान का गलत मतलब निकाला गया.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
केंद्र का कार्रवाई से इंकार
वहीं दूसरी ओर गृहराज्य मंत्री किरन रिजिजू का कहना है कि सरकार ने अभी तक नाईक के खिलाफ कार्रवाई का कोई फैसला नहीं लिया है. उन्होंने कहा कि हम व्यक्तियों पर प्रतिबंध नहीं लगाते और अभी तक बांग्लादेश की ओर से कोई औपचारिक अनुरोध भी नहीं मिला है. जब वह हमसे अनुरोध करेंगे, तब हम देखेंगे कि क्या करना है.