नई दिल्ली. केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली की संपत्ति वित्त वर्ष 2015-16 में 6.02 करोड़ रुपए घट गई है. जेटली की संपत्ति 8.9 फीसदी घटकर 60.99 करोड़ रुपए हो गई है. जबकि पिछले वित्त वर्ष 2014-15 में यह 67.01 करोड़ रुपये थी. प्रधानमंत्री की वेबसाइट के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संपत्ति में उनकी गांधीनगर की संपत्ति शामिल है, जिसकी कीमत एक करोड़ रुपये है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
केंद्रीय मंत्रिमंडल में जेटली की संपत्ति और देनदारियां सबसे ज्यादा मानी जाती है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी संपत्ति वित्त वर्ष 2014-15 में 1.41 करोड़ रुपये घोषित की है, जो वित्त वर्ष 2013-14 के 1.26 करोड़ रुपये से 15 लाख रुपये अधिक है.
 
वित्तमंत्री की संपत्तियों -आवासीय और वाणिज्यिक- का बाजार मूल्य दोनों वित्तवर्ष में समान रहा है, लेकिन उनके बैंक बैलेंस, नकदी और वाहनों में कमी आई है. आंकड़ों के अनुसार, “चार बचत खातों (तीन एचडीएफसी बैंक में और एक भारतीय स्टेट बैंक में) में जेटली का बैंक बैलेंस वित्त वर्ष 2016 में घटकर एक करोड़ रुपये हो गया, जो वित्त वर्ष 2015 में 3.52 करोड़ रुपये था.”
 
समीक्षाधीन दोनों वित्त वर्षो में वित्तमंत्री ने एमप्रो ऑयल में नौ करोड़ रुपये और डीसीएम श्रीराम कंसोलिडेटेड में आठ करोड़ रुपये कंपनी डिपॉजिट किया है. रिकार्ड के मुताबिक, वित्त वर्ष 2013-14 में दो करोड़ रुपये के निवेश के अलावा वित्तमंत्री ने कोई नया निवेश नहीं किया है.
 
वित्तमंत्री के पास 5.6 किलोग्राम सोने के जेवर हैं, जिनकी कीमत वित्त 2016 में 1.35 करोड़ रुपये है. वित्त वर्ष 2015 में इन्हीं गहनों की कीमत 1.25 करोड़ रुपये थी. उनके पास 15 किलोग्राम चांदी है, जिसकी कीमत वित्त साल 2016 में 5.54 लाख रुपये है, जबकि इनकी कीमत वित्त वर्ष 2015 में 5.67 लाख रुपये थी. उनके पास जो हीरे हैं, उसकी कीमत पिछले तीन वित्त वर्षो से 45 लाख रुपये बरकरार है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
आंकड़ों से पता चलता है कि वित्तमंत्री के पास छह घर हैं, जो संयुक्त रूप से उनकी पत्नी के नाम पर है. ये घर दिल्ली, हरियाणा के गुड़गांव और पंजाब के अमृतसर और गुजरात के गांधीनगर में हैं. उनके पास कई शहरों में जमीन और व्यावसायिक संपत्तियां भी हैं.