नई दिल्ली. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के मुखिया रघुराम राजन ने आरबीआई गवर्नर के कार्यकाल को बढ़ाने की बात कही है. राजन ने अर्थव्यवस्था और बैंकों में एनपीए के विभिन्न आयामों के संबंध में संसद की वित्त संबंधी स्थायी समिति के सामने यह बात रखी है. उन्होंने कहा कि आरबीआई गवर्नर के लिए तीन साल का कार्यकाल काफी छोटा है इसे बढ़ाया जाना चाहिए. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

 
राजन से जब यह पूछा गया कि आरबीआई के गवर्नर का टर्म कितने समय का होना चाहिए तो उन्होंने विदेशों का उदाहरण देते हुए कहा कि अमेरिका में फेडरल रिजर्व के मुखिया का कार्यकाल चार साल का होता है और उन्हें दोबारा नियुक्त किया जा सकता है, जबकि कई देशों में केंद्रीय बैंकों के गवर्नर का टर्म पांच सालों का होता है. भारत में भी वैश्विक स्तर के चलन को अपनाना चाहिए.
 
 
ब्रेग्जिट के मुद्दे पर राजन ने कहा कि अगर यह तुरंत होता तो भारत के लिए यह चिंता का विषय होता, लेकिन ब्रेग्जिट में अभी वक्त है इसलिए भारत को फायदा हो सकता है. उन्होंने कहा कि ब्रेग्जिट हमारे लिए बड़ा मौका हो सकता है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
बता दें कि राजन का तीन साल का कार्यकाल चार सितंबर को समाप्त हो रहा है और उन्होंने दूसरे टर्म के लिए मना कर दिया है. राजन ने ऐलान किया था कि वह दूसरी बार पद नहीं संभालेंगे और शिकागो यूनिवर्सिटी लौट जाएंगे जहां वो फिनांस के प्रोफेसर हैं.