नई दिल्ली. पाकिस्तानी उच्चायुक्त अब्दुल बासित को भेजा गया इफ्तार पार्टी का न्योता रद्द कर दिया गया है. यह न्योता राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के मुस्लिम मंच की ओर से भेजा गया था, जिसे मंच ने वापस ले लिया है. रिपोर्ट्स के अनुसार न्योता वापस लेने के पीछे का कारण पंपोर हमले को लेकर अब्दुल बासित का दिया गया बेतुका बयान बताया जा रहा है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि मुस्लिम मंच ने 2 जुलाई को होने वाली इफ्तार पार्टी को लेकर बासित को विशेष तौर पर आमंत्रित किया था.
 
मैसेज के जरिए न्योता वापस
 
बासित के बयान को लेकर मुस्लिम मंच ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए न्योता वापस लिया है. न्योता वापस के लिए मंच ने बासित को भेजे एक मैसेज में लिखा है कि अब आपको आने की कोई जरूरत नहीं है. इफ्तार पार्टी अब आपके बिना ही की जाएगी. साथ ही मैसेज में यह भी लिखा गया कि आपको जो न्योता दिया गया है मंच उसे वापस लेता है.
 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
क्या कहा था अब्दुल बासित ने ?
 
बता दें कि पंपोर हमले के बाद जब अब्दुल बासित से मामले को लेकर सवाल पूछा गया था तो उन्होंने बेतुका बयान देते हुए कहा था कि देखिए रमजान का महीना है, इफ्तार पार्टी पर फोकस कीजिए. इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा था कि सियासी बातचीत नहीं, गैर-सियासी बातचीत करें. सियासी बातचीत के लिए कल का दिन भी है, रमजान के बाद भी हम बात कर सकते हैं. उन्होंने यहां तक कह दिया कि मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि इफ्तार पार्टी है, इसका मजा लीजिए.