नई दिल्ली. प्रचंड गर्मी का कहर पूरे देश में जारी है. मैदानी इलाकों में चिलचिलाती धूप और लू के थपेड़ों ने हालात खराब कर दिए हैं. आलम यह है कि देश के मशहूर हिल स्टेशन मसूरी में भी शनिवार को पारा 36 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया. कई दिनों से चल रही गर्म हवाओं ने दक्षिण भारत में सबसे ज्यादा कहर ढाया, शनिवार को तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में लू की चपेट में आने से 135 लोगों की मौत हो गई. बीते तीन दिनों में लू की चपेट में आने से अब तक देश भर में 335 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें भी आंध्र में 75 और तेलंगाना में 60 लोगों की मौत हो गई. दोनों राज्यों में पारा सामान्य से पांच से सात डिग्री सेल्सियस से अधिक बना हुआ है. 

यही नहीं उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में भी 47 डिग्री तापमान दर्ज किया गया. तेज गर्मी के चलते दोनों ही राज्यों में मनरेगा स्कीम के टाइम टेबल को भी बदल दिया गया है. इसकी वजह यह है कि लू की चपेट में आकार मरने वालों में सबसे अधिक मजदूर तबके के लोग ही थे. तेलंगाना के खम्मम जिले में 1947 के बाद सबसे अधिक 48 डिग्री तापमान रेकॉर्ड किया गया। चिंता की बात यह है कि इस गर्मी से अभी निजात नहीं मिलने वाली है.

मौसम विभाग के अनुसार आने वाले दिनों में देश के सेंट्रल, उत्तर-पश्चिम और पूर्वी भारत में तापमान और अधिक बढ़ेगा. खास तौर पर मध्य प्रदेश, बिहार, झारखंड, विदर्भ, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में अगले कुछ दिनों में गर्मी और जानलेवा हो सकती है. इस बीच मैदानी इलाकों में गर्मी बढ़ने के बाद शिमला, मसूरी, अल्मोड़ा और नैनीताल जैसे हिल स्टेशनों पर लोगों का जमावड़ा लगने लगा है. लेकिन भी लोगों को खास राहत नहीं मिल पा रही है. दिल्ली की गर्मी से कुछ वक़्त के लिए निजात पाने को मसूरी गईं स्मिता कपूर ने बताया, ‘विश्वास नहीं हो रहा, मसूरी और दिल्ली के तापमान में कोई फर्क ही नहीं दिख रहा है.’

IANS