नई दिल्ली. भारत को भले ही न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) में जगह नहीं मिली लेकिन मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रिजीम (MTCR) में सोमवार को पूर्ण सदस्यता मिल जाएगी. MTCR में शामिल होने के बाद भारत हाई-टेक मिसाइल एक्सपोर्ट कर सकता है और अपनी बह्मोस जैसी मिसाइल को बेच सकेगा. हालांकि चीन अब तक इसका सदस्यत नहीं बना है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
एप्लीकेशन को कर दिया था रिजेक्ट
चीन ने 2004 में MTCR में सदस्यता के लिए एप्लीकेशन दी थी, पर नॉर्थ कोरिया को मिसाइल तकनीक देने के आरोप में उसकी एप्लीकेशन को रिजेक्ट कर दिया गया. अब जब भारत MTCR का सदस्य होगा तो उसके पास मौका होगा कि वह चीन को एंट्री दे या नहीं.
 
 
चीन 10 साल से MTCR में आने का इच्छुक
भारत के लिए एMTCR में जाना एक बड़ी उपलब्धि है. चीन 10 साल से से इसकी सदस्यता ग्रहण करना चाहता है लेकिन वह सदस्य नहीं बन पाया. भारत MTCR का 35वां सदस्य होगा. इसकी सदस्यता से भारत की मिसाइल टेक्नोलॉजी की गुणवत्ता तो बढ़ेगी ही भारत मिसाइल का निर्यात भी कर पाएगा.
 
 
MTCR से भारत को होगा यह फायदा
34 देशों के Missile Technology Control Regime (MTCR) में भारत की एंट्री फाइनल हो गई है. MTCR में शामिल होने के बाद भारत हाई-टेक मिसाइल का दूसरे देशों से बिना किसी अड़चन के एक्सपोर्ट कर सकता है और अमेरिका से ड्रोन भी खरीद सकता है और बह्मोस जैसी मिसाइल को बेच सकेगा. एमटीसीआर एक प्रमुख अप्रसार समूह है और इसका सदस्य बनने से भारत को अत्याधुनिक प्रक्षेपास्त्र प्रौद्योगिकी तक पहुंच बनाने में मदद मिलेगी. MTCR का सदस्य बनने पर भारत को कुछ नियमों का पालन करना पड़ेगा जैसे अधिकतम 300 किलोमीटर से कम रेंज वाली मिसाइल बनाना ताकि हथियारों की होड़ को रोका जा सके. बता दें कि भारत ने MTCR सदस्यता के लिए पिछले साल आवेदन किया था और उसकी अर्जी ‘मूक प्रक्रिया’ के तहत विचाराधीन थी. किसी भी देश की आपत्ति के बिना प्रक्रिया की अवधि सोमवार को उसकी एंट्री हो जाएगी.