देहरादून. उत्तराखंड में खराब मौसम के कारण सालाना चारधाम यात्रा में रुकावटों की खबरें आ रही हैं. बताया जा रहा है तेज बारिश के कारण चारधाम श्रद्धालु जगह-जगह फंसे हैं. मौसम खराब होने के कारण राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी केदारनाथ के दर्शन नहीं कर पाए. वह कई घंटों तक गौचर में फंसे रहे, लेकिन मौसम खराब होने के कारण एमआई-17 को उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी गई.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बारिश के कारण बंद हुई हवाई यात्रा
पिछले 48 घंटे से जारी तेज बारिश के कारण केदारनाथ मंदिर के लिए हवाई यात्रा बंद कर दी गई है, जो साल 2013 में आई विनाशकारी बाढ़ से तबाह हो गई थी. इस दौरान हजारों लोगों की मौत हो गई थी. बद्रीनाथ मार्ग पर भूस्खलन के कारण बुधवार को बद्रीनाथ जाने वाले श्रद्धालु 12 घंटों से अधिक समय तक फंसे रहे. अधिकारिक तौर पर बताया गया है कि सोनप्रयाग में भारी बारिश के बाद केदारनाथ मार्ग काफी खराब हो गया है और हेलीपैड भी क्षतिग्रस्त हो गया, जिसके कारण केदारनाथ से हवाई यात्रा बंद कर दी गई.
 
बादल फटने से 6 लोगों की मौत
उत्तराखंड के टिहरी और उत्तरकाशी जिलों में बादल फटने से छह व्यक्तियों की मौत हो गई. भारी बारिश के कारण टिहरी जिले के घनसाली क्षेत्र में शनिवार को सिलसिलेवार बादल फटे. बलगाना घाटी में आधे दर्जन से ज्यादा गांवों में सैकड़ों घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं और चार धाम यात्रा बाधित हो गई है.
 
राष्ट्रपति को रद्द करनी पड़ी यात्रा
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी केदारनाथ जाकर दर्शन नहीं कर पाए. वह कई घंटों तक गौचर में फंसे रहे, लेकिन मौसम खराब होने के कारण एमआई-17 को उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी गई, जिसके कारण राष्ट्रपति को अपनी यात्रा रद्द करनी पड़ी. कई घंटों तक इंतजार करने के बाद मुखर्जी देहरादून लौटे और फिर शाम में दिल्ली लौट गए.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
भारी बारिश का अनुमान
उत्तराखंड में अगले 36 घंटे तक भारी बारिश होने का अनुमान लगाया गया है. नैनीताल, अल्मोड़ा और देहरादून में भारी बारिश होने की संभावना जताई गई है. साथ ही बद्रीनाथ और केदारनाथ में भी भारी बारिश का अनुमान व्यक्त किया गया है. केदारनाथ में चार धाम की यात्रा पर गए श्रद्धालुओं को सुरक्षित जोन में रोका गया है. श्रद्धालुओं से दोपहर बाद यात्रा शुरू करने को कहा गया है.