नई दिल्ली. बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन के बाद अब नरेंद्र मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम को हटाने की मांग कर दी है. स्वामी ने अरविंद की भारतीय नागरिकता पर संदेह जाहिर करते हुए कहा कि इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी विवाद में अरविंद ने अमेरिका को भारत के खिलाफ कदम उठाने की सलाह दी थी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
स्वामी ने आरोप लगाया कि जीएसटी पर कांग्रेस को अड़े रहने के लिए अरविंद ने ही उत्साहित किया. स्वामी ने यह भी कहा कि अमेरिकी दवा कंपनियों के हितों की रक्षा के लिए अरविंद ने ही अमेरिका को भारत के खिलाफ 2013 में कार्रवाई के लिए कहा था.
 
 
स्वामी ने ट्विटर पर लिखा, “अनुमान लगाइए जीएसटी पर कांग्रेस को अपने रुख पर अड़े रहने के लिए किसने प्रोत्साहित किया? जेटली के आर्थिक सलाहकार वाशिंगटन डीसी के अरविंद सुब्रह्मण्यन.
 
उन्होंने आगे लिखा, “13 मार्च, 2013 को किसने अमेरिकी कांग्रेस से कहा था कि अमेरिका को अपने दवा उद्योग के हितों की रक्षा के लिए भारत के खिलाफ कदम उठाना चाहिए? अरविंद सुब्रमण्यन! वित्त मंत्री, उन्हें बर्खास्त करें!”
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने इस मामले पर चुटकी लेते हुए ट्विटर पर लिखा कि सुब्रमण्यम स्वामी अब अरविंद सुब्रमण्यम के पीछे पड़े है लेकिन उनके निशाने पर असल में अरविंद नहीं, अरुण जेटली हैं.