नई दिल्ली. 1 जुलाई से रेलवे में कई नए नियम लागू होने जा रहे हैं. नए नियमों के अन्तर्गत यात्रियों की सुविधा का खास ध्यान रखा गया है. इन नए नियमों में सबसे बड़ा बदलाव यह है कि रेलवे जुलाई से ऑनलाइन बुकिंग पर वेटिंग टिकट खत्म करने जा रही है. हालांकि इस दौरान यात्रियों को दूसरी ट्रेन में यात्रा का विकल्प दिया जाएगा, ताकि यात्रियों को वेटिंग के इंतजार से छुटकारा मिल सके.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
राजधानी और शताब्दी में बढ़ेंगे कोच
राजधानी और शताब्दी ट्रेनों में सफर के लिए लोगों की भीड़ को देखते हुए इन ट्रेनों में यात्रियों को कंफर्म सीट उपलब्ध करवाने के लिए कोचों की संख्या बढ़ाई जाएगी, ताकि लोगों को अधिक संख्या में कंफर्म टिकट मिल सके.
 
पेपरलेस सुविधा
इसके साथ ही राजधानी-शताब्दी में सफर करने वाले यात्रियों को पेपरलैस टिकटिंग की सुविधा दी जाएगी. यानि यात्रियों के मोबाइल नंबर पर टिकट की सारी जानकारी उपलब्ध होगी. जो सफर के दौरान परिचय पत्र के साथ टीटीई को दिखानी होगी.
 
सुविधा ट्रेनों की शुरूआत
1 जुलाई से रेलवे ने प्रीमियम ट्रेनों को बंद कर राजधानी, शताब्दी, दुरंतो और मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों की तर्ज पर सुविधा ट्रेनें चलेंगी. इन ट्रेनों में सभी को कन्फर्म टिकट दिया जाएगा. टिकट कैंसल कराने पर आधा पैसा वापस मिलेगा.
 
तत्काल टिकट कैंसलिंग पर मिलेगा 50%
तत्काल टिकट कैंसल कराने पर अब 50% किराया वापस होगा. वहीं एसी फर्स्ट और सेकंड का टिकट कैंसल कराने पर 100 रुपए अतिरिक्त काटे जाएंगे. एसी थर्ड के लिए 90 रुपए और स्लीपर क्लास का टिकट कैंसल कराने पर 60 रुपए काटे जाएंगे. यानी अब पूरे पैसों का नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा.
 
तत्काल टिकट टाइमिंग
1 जुलाई से एसी कोच के लिए तत्काल टिकट की बुकिंग के लिए सुबह 10 बजे से 11 बजे तक बुकिंग खिड़की खुली खुलेगी. वहीं स्लीपर क्लास के लिए 11 से 12 बजे के बीच बुकिंग की जाएगी.
 
स्थानीय भाषाओं में बुकिंग
अब तक रेलवे की ऑनलाइन टिकटों की बुकिंग सिर्फ हिंदी व अंग्रेजी में ही की जाती थी, लेकिन अब जुलाई से टिकटों की बुकिंग करीब सभी स्थानीय भाषाओं में की जा सकेगी.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
50 हजार में 7 दिन के लिए कोच बुक
नए नियमों के तहत कोई भी व्यक्ति 50 हजार रुपये में सात दिनों के लिए कोच बुक करवा सकता है. नौ लाख रुपये देकर कोई भी व्यक्ति या संगठन सात दिनों के लिए 18 डिब्बों की पूरी रेलगाड़ी बुक करवा सकता है. अगर उसे 18 डिब्बों से ज्यादा की जरूरत होगी तो वह 50 हजार रुपये प्रति कोच अतिरिक्त जमा करवाकर और कोच प्राप्त कर सकता है.