सूरत. इशरत जहां एनकाउंटर केस में सजा काट चुके गुजरात के पूर्व आईपीएस अधिकारी डीजी वंजारा फिर विवादों में आ गए हैं. सूरत में उन्होंने सरदार बल्लभ भाई पटेल की मूर्ति को नकली पिस्तौल की माला पहनाई. इससे नाराज पाटीदारों ने वंजारा की ओर से सरदार पटेल की प्रतिमा को पहनाई गई माला उतारकर फेंक दी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
माला में पिरोई थी पिस्तौल
अपने समर्थकों द्वारा आयोजित कार्यक्रम में डीजी वंजारा को सरदार पटेल की प्रतिमा को माल्यार्पण करना था, लेकिन उन्होंने वहां मौजूद लोगों को हैरान करते हुए मूर्ति को फूलों की माला पहनाने के साथ-साथ एक और माला भी पहनाई, जिसमें एक कलम और एक खिलौना पिस्तौल पिरोई गई थी. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
वंजारा ने दी सफाई
पाटीदारों के विरोध की बात जब सामने आई, तो डीजी वंजारा ने इसपर सफाई दी. उनका कहना है कि ऐसे करके उन्होंने यह बताने की कोशिश की है कि पटेल सिर्फ पटेलों के ही नहीं थे. वो पूरे भारत के हैं.’ वंजारा ने कहा कि सरदार को कलम और बंदूक का माल्यार्पण इसलिए किया गया, क्योंकि उन्होंने अखंड भारत बनाने के लिए शास्त्र और शस्त्र दोनों का इस्तेमाल किया था. हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि ऐसा करने के पीछे दिखी की भावना को ठेस पहुंचाना उनका मकसद नहीं था.