नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर पद का कार्यकाल खत्म करने के बाद रघुराम राजन के वापस शिकागो लौटने के फैसले से पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम दुखी हो गए हैं. चिदंबरम ने कहा है ये भारत का नुकसान है और वो पहले कही अपनी बात को दोहराएंगे कि नरेंद्र मोदी की सरकार असल में रघुराम के लायक नहीं है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
चिदंबरम के कार्यकाल में ही रघुराम राजन बतौर आरबीआई गवर्नर भारत आए थे. उन्होंने रघुराम राजन के दूसरा टर्म न लेने के फैसले पर एक बयान जारी कर कहा कि वो रघुराम राजन के वापस लौटने के फैसले से दुखी हैं लेकिन आश्चर्यचकित नहीं हैं. 
 
 
रघुराम राजन के खिलाफ बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी के लगातार हमलों की तरफ इशारा करते हुए चिदंबरम ने कहा कि सरकार ने सुनियोजित तरीके से रघुराम जैसे प्रसिद्ध अर्थशास्त्री के खिलाफ लगातार झूठे आरोप लगवाकर ऐसा माहौल तैयार किया जिसमें रघुराम को ये फैसला लेना पड़ा.
 
 
देश के पूर्व वित्त सचिव डॉक्टर अरविंद मायाराम ने भी रघुराम राजन के फैसले पर दुख जताते हुए कहा है कि ये भारत की अर्थव्यवस्था को बहुत महंगा पड़ेगा. मायाराम ने कहा है कि ये शुभ संकेत नहीं है.