नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने तीस्ता सीतलवाड़ के एनजीओ सबरंग का फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट लाइसेंस कैंसिल कर दिया है. पिछले साल सितंबर में सरकार ने एफसीआरए के प्रावधानों के उल्लंघन और फंड का ट्रस्टी के निजी इस्तेमाल के आरोप में सबरंग का लाइसेंस सस्पेंड कर दिया था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
तीस्ता सीतलवाड़ को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ गुजरात दंगों के कई मुकदमों की लड़ाई का चेहरा माना जाता है. सीतलवाड़ से जुड़े लोगों ने पहले ही कह रखा है कि अगर सरकार उनका विदेशी चंदा लाइसेंस कैंसिल करती है तो वो कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे.
 
सरकार ने सबरंग का लाइसेंस सस्पेंड करते वक्त जो नोटिस जारी किया था उसके मुताबिक 2010-11 और 2011-12 में सबरंग ने प्रशासनिक चीजों पर चंदे का 55 और 65 परसेंट हिस्सा खर्च किया जबकि 50 परसेंट से ज्यादा प्रशासनिक खर्च के लिए मंत्रालय की मंजूरी लेनी चाहिए थी.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
नोटिस के मुताबिक सबरंग के खाते से पैसे दूसरे एकाउंट में ट्रांसफर किए गए और फिर उन खातों से तीस्ता और उनके पति जावेद आनंद के क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान किया गया जो विदेश से मिले चंदे का दुरुपयोग माना गया.