नई दिल्ली. कांग्रेस नेता कमलनाथ के पंजाब प्रभारी के पद से इस्तीफे के बाद दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को यह जिम्मा सौंपा जा सकता है. इसके लिए शीला दीक्षित ने गुरुवार को कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की. बता दें कि तीन दिन पहले पंजाब के प्रभारी बनाए गए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने विवादों को देखते हुए पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से उन्हें इस पद से मुक्त करने का अनुरोध किया जिसे स्वीकार कर लिया गया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
आप और अकाली दल ने लगाए आरोप
इस बीच कमलनाथ की सिख दंगों में भूमिका पर आम आदमी पार्टी और अकाली दल ने सवाल उठाए थे. रिपोर्ट्स के मुताबिक आप गुरुवार को कांग्रेस के मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन करने का फैसला लिया है. इससे पहले कमलनाथ को पंजाब से प्रभारी पद से हटाने की अपील की जा रही थी. आम आदमी पार्टी का आरोप है कि कमलनाथ का नाम सिख दंगों में आ चुका है. ऐसे में कमलनाथ को पंजाब का प्रभार देकर कांग्रेस का अपमान किया है.  
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
कमलनाथ ने सोनिया को लिखी चिठ्ठी
जानकारी के अनुसार कमलनाथ ने सोनिया गांधी को चिठ्ठी लिख कर पंजाब के प्रभारी पद को उनसे वापस लेने की अपील की. क्योंकि उनकी वजह से पंजाब से असल मुद्दा भटक रहा था. बता दें कि कुछ समय पहले ही कांग्रेस ने गुलाम नबी आजाद को जहां उत्तर प्रदेश का, वहीं कमलनाथ को पंजाब और हरियाणा का जिम्मा दिया था. इससे पहले यूपी की कमान मधुसूदन मिस्त्री और पंजाब-हरियाणा की जिम्मेदारी शकील अहमद के पास थी.