लखनऊ. यूपी के कैराना से हिंदुओं के कथित पलायन मामले को लेकर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सूप्रीमों मायावती ने बीजेपी और समाजवादी पार्टी पर निशाना साधा है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि बीजेपी चंद घंटों में कैराना मामले को उछालकर दंगा कराने की साजिश कर रही थी. साथ ही यह भी कहा कि सरकार समाज को बांटने की राजनीति कर रही है, यह सही नहीं है. इसके अलावा उन्होंने प्रदेश में हो बढ़ रही घटनाओं को लेकर सपा सरकार को अपराध और अराजकता की सरकार करार दिया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
‘हिंदू-मुस्लिम दंगे कराना चाहती थी BJP’
मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा है कि बीजेपी की ये घिनौनी साजिश थी और यह पार्टी कैराना में हिंदू-मुस्लिम दंगे कराना चाहती थी. अच्छी बात ये है कि इस घिनौनी राजनीतिक साजिश को मीडिया ने विफल कर दिया. जनता मीडिया की आभारी है. वरना इसी मुद्दे की आड़ में जबरदस्त दंगे हो सकते थे.
 
‘प्रचार-प्रसार में अरबों रुपये किए बर्बाद’
मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार ने दो साल के कार्यकाल में एक चौथाई भी काम नहीं किया है. इसलिए बीजेपी और इनकी केंद्र सरकार के खिलाफ गुस्सा है. असम में सत्ता आने पर, और दो साल पूरे होने पर जनता का अरबों रुपया अपने प्रचार-प्रसार के लिये बर्बाद किया है. जबकि ये इस धन को सूखाग्रस्त इलाकों में लगा सकते थे. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
UP सरकार पर हमला
सपा सरकार अपराध और अराजकता की सरकार है. सपा सरकार के बहुमत में आने से गुंडों का एकछत्र राज है. सपा सरकार में 22 करोड़ जनता का जीना मुश्किल हो गया है. मायावती ने कहा कि प्रदेश की स्थिति को देखते हुए केंद्र सरकार को चाहिए कि वो सपा सरकार को बर्खास्त कर यूपी मंग राष्ट्रपति शासन लगाए और जल्द से जल्द चुनाव कराए.