इलाहबाद. बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के दूसरे दिन सीएम कैंडिडेट को लेकर बीजेपी सांसद वरुण गांधी के पोस्टर पर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने मीटिंग बुलाई थी लेकिन सूत्रों के मुताबिक वरुण इस मीटिंग में नहीं पहुंचे.
 
वरुण को सीएम प्रोजेक्ट करने वाले पोस्टर के पीछे बीजेपी के दो सक्रिय और 16 सामान्य कार्यकर्ताओं की भूमिका सामने आई है जिन्हें पार्टी से निकालने की खबर है. बताया जा रहा है कि इन लोगों ने पार्टी की अनुमति के बिना वरुण गांधी के पोस्टर छपवाए और शहर में लगाए.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
माना जा रहा है वरुण सीएम पद के लिए अपनी दावेदारी रखना चाहते हैं. हालांकि पार्टी का कहना है कि पोस्टर लगाने से कोई सीएम उम्मीदवार नहीं बन जाता. बता दें कि बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह एवं अन्य नेता ने हिस्सा लिया. 
 
 
वरुण को मिली थी हिदायत 
 
बता दें कि इसके पहले भी बीजेपी ने वरुण गांधी को राजनीतिक गतिविधियां अपने निर्वाचन क्षेत्र सुल्तानपुर तक ही सीमित रखने की सख्त हिदायत दी थी. इसके बावजूद वरुण इलाहाबाद दौरे पर चले गए, जिससे बीजेपी खासी नाराज बताई जा रही है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
UP की वरुण पुकार-अबकी बार BJP सरकार
 
वरुण गांधी के विभिन्न आकार वाले होर्डिग और पोस्टर के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी होर्डिग-पोस्टर में छाए हुए हैं. बीजेपी ने पोस्टर और होर्डिग से लगभग पूरे शहर को भगवा रंग में पाट दिया है. वरुण गांधी के एक बहुत बड़े आकार के होर्डिग पर लिखा है, ‘यूपी की वरुण पुकार-अबकी बार बीजेपी सरकार.’  
 
पार्टी के नेता अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की रणनीति पर मंथन के लिए इलाहाबाद में जुटे हैं. राष्ट्रीय कार्यकारिणी की इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता शामिल होने वाले हैं.