नई दिल्ली. हिंदू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि महाराज को मारने के लिए अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा शकिल ने चार लड़कों को पांच लाख की सूपारी दी थी. पांच लाख की ये सुपारी दिल्ली-एनसीआर के ही 4 कांट्रैक्ट किलर को दी गई थी लेकिन सुरक्षा एजेंसियों ने छोटा शकील और उनके गुर्गों के बीच हुई बातचीत से छोटा शकील के प्लान चक्रपाणि पर पानी फेर दिया और चारों गुर्गे को गिरफ्तार कर लिया. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
32 हजार रुपये में खरीदी थी कार
बता दें कि दिसंबर 2015 में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के सामान की नीलामी में खरीदी गई कार को गाजियाबाद में जला दिया गया. आतंकवाद के खिलाफ विरोध जताने के लिए हिंदू महासभा ने ऐसा किया है. इस संगठन ने 9 दिसंबर को मुंबई में हुई नीलामी में 32 हजार रुपये में इस कार को खरीदा था. स्वामी चक्रपाणि अखि‍ल भारतीय हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष होने का दावा करते हैं, जबकि वह राम जन्मभूमि मामले में याचिकाकर्ता भी हैं.
 
कैसे हुआ खुलासा?
छोटा शकील ने चक्रपाणि महाराज के नाम की सुपारी दी थी. ये सुपारी जुनैद नाम के कांट्रैक्ट किलर को दी गई थी. छोटा शकील ने अपने गुर्गे को जो मैसेज किया था उसमें क्या लिखा हुआ था- ‘उसको वहीं पर मार जहां कार जलाया था. उसके साथ कोई डॉक्टर नहीं रहता.’
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
सांप्रदायिक दंगा फैलाने की थी साजिश
शकील का प्लान दाऊद की कार जलाने का बदला लेने के साथ ही स्वामी को मारकर सांप्रदायिक दंगा को हवा देने की भी थी. बताया जाता है कि इसके पीछे आईएसआई का भी हाथ है. पाकिस्तानी खूफिया एजेंसी चाहती है कि हिंदुस्तान में कुछ ऐसा किया जाए कि दंगा भड़के.