नई दिल्ली. बीजेपी विधायक ओपी शर्मा और आप विधायक अलका लांबा के बीच सुलह नहीं हो पाई. दिल्ली हाईकोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद कहा कि दोनों के बीच सुलह की संभावना नहीं है. गुरुवार को बीजेपी विधायक ओपी शर्मा और आप विधायक अलका लाम्बा दिल्ली हाईकोर्ट में पेश हुए. अलका लांबा की ओर से कोर्ट में माफीनामे का मसौदा दिया गया लेकिन ओपी शर्मा ने उसे मानने से इंकार कर दिया. इसके बाद जज ने चेंबर में दोनों को अलग-अलग बुलाकर बातचीत की और उनकी राय ली.  
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
हाई कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद कहा कि दोनों के बीच सुलह की संभावना नहीं है. ऐसे में याचिका पर अब मैरिट के आधार पर सुनवाई होगी. जिसका मतलब है कि शर्मा आज से शुरू होने वाले दो दिन के विधानसभा सत्र में भाग नहीं ले सकते.
 
दरअसल बुधवार को बीजेपी विधायक ओपी शर्मा की याचिका पर सुनवाई करते हुए उनको और आप विधायक अलका लाम्बा को गुरुवार को सुबह 10.30 पर कोर्ट में पेश होने को कहा था. कोर्ट ने दोनों विधायकों से पूछा था कि क्या माफ़ी मांगने से ये मामला ख़त्म हो सकता है?
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
बता दें कि बीजेपी विधायक ओपी शर्मा को पिछले साल नवंबर महीने में अलका लांबा पर अभद्र टिप्पणी के मामले में दो सत्र के लिए विधानसभा से सस्पेंड कर दिया गया था. इस निलंबन के खिलाफ ओपी शर्मा ने मंगलवार को हाईकोर्ट में सस्पेंड करने की प्रकिया को कोर्ट में चुनौती दी थी.