चंडीगढ़. हरियाणा में रविवार से एक बार फिर जाट आंदोलन की शुरूआत हो रही है. अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति (एबीजेएएसएस) आज से आंदोलन कर रही है. जींद जिले के गांव झांझ कलां में पहले एक रैली होगी इसके बाद जाट नेता आंदोलन पर बैठेंगे. ऐसे में सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए खट्टर सरकार ने पहले से ही 8 जिलों में धारा 144 लागू कर दी है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इसके अलावा  9 जिलों में पैरामिलिट्री फोर्स की 41 कंपनियां तैनात की गई हैं. स्टेट गवर्नमेंट ने पुलिसकर्मियों की छुटि्टयां रद्द कर दी हैं. सीआईडी आंदोलनकारियों पर नजर बनाए हुए है. आंदोलन को देखते हुए शनिवार शाम से ही सोनीपत में इंटरनेट सर्विस और बल्क मैसेज पर बैन लगा दिया गया है. 
 
रोहतक के उपायुक्त अतुल कुमार ने बताया, ‘6 संगठनों ने बातचीत के बाद आंदोलन वास ले लिया. रोहतक शहर में हालात पूरी तरह शांतिपूर्ण हैं. जैसिया गांव में एक ग्रुप विरोध प्रदर्शन करेगा. किसी भी तरह के हालात से निपटने के लिए पूरी तैयारियां हैं. रोहतक में अर्धसैनिक बलों की 6 कंपनियां तैनात हैं.’
 
आंदोलनकारियों को कहा गया है कि रेलवे ट्रैक, रोड, बिजली, बस, जलस्रोतों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश पर सख्त कार्रवाई होगी. 
 
जाट समुदाय फरवरी में हुए आंदोलन के दौरान हिंसा, को लेकर जाट युवाओं पर दर्ज मुकदमे को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. उनकी डिमांड है कि गिरफ्तार युवाओं को रिहा किया जाए. इसके अलावा आंदोलन के दौरान मारे गए लोगों के परिजनों को मुआवजा और नौकरी की भी मांग की जा रही है. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter