नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने दो दिन 7 और 8 जून अमेरिकी दौरे के दौरान अमेरिकी सदन की विदेश संबंध समिति और सीनेट की विदेश संबंध समिति की बैठक में शामिल होंगें.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
जानकारी के अनुसार वे अपनी इस यात्रा के दौरान अमेरिका के अर्लिगट्न कब्रिस्तान में सैनिको को श्र्रद्धांजली भी देने भी जाएंगे. बता दें कि मोदी अर्लिगट्न कब्रिस्तान जाने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री होंगें.
 
अर्लिगट्न कब्रिस्तान अमेरिकी सैन्य कब्रिस्तान है जो वर्जीनिया में पोटोमैक नदी के पार वाशिंगटन डी.सी में हैं. ऐसा माना जाता है कि नाटो के सहयोगी दल जिसमें ब्रिटिश प्रधानमंत्री और फ्रांस के राष्ट्रपति ही शामिल है, इस कब्रिस्तान का दौरा करतें है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
सूत्रों के मुताबिक मोदी अमेरीकी गेस्ट हाउस ब्लेयर हाउस जाएंगे जहां वे अमेरीकी-भारतीय व्यवसाय परिषद द्वारा गठित बैठक में हिस्सा लेंगें और इस बैठक में एनआरआई समूह के शामिल होने की संभावना है.