लखनऊ. बसपा सुप्रीमो मायावती ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के लिए ‘मुंह में राम, बगल में छुरी’ मुहावरे का इस्तेमाल करते हुए कहा है कि यूपी में दलितों के साथ उनका भोजना करना राजनीतिक नाटक है. मायावती ने कहा कि एक तरफ बीजेपी शासित हरियाणा में दलितों के नेता कांशीराम की मूर्ति तोड़ दी जाती है तो दूसरी तरफ बीजेपी अध्यक्ष यूपी में दलितों के साथ खाने का राजनीतिक नाटक करते हैं.
 
मायावती ने कहा कि अमित शाह का एक ओबीसी के घर पर चुने हुए दलितों के साथ भोजन करना ठीक वैसा ही है जैसा कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी बसपा की सरकार के कार्यकाल में करते थे. मायावती ने मांग की है कि हरियाणा में कांशीराम की मूर्ति फिर से लगवाई जाए और मूर्ति तोड़ने में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए.