नई दिल्ली. 5 राज्य के विधानसभा चुनावों में असम और केरल में सरकार गंवाने के बाद कांग्रेस में आत्ममंथन को लेकर हलचल तेज हो गई है. कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक पार्टी अगले महीने कर्नाटक में चिंतन शिविर का आयोजन कर सकती है. चिंतन शिविर में लोकसभा चुनाव के बाद विधानसभा चुनावों में पार्टी की एक के बाद एक हार विचार-विमर्श किया जाएगा. शिविर में ऑल इंडिया कांग्रेस वर्किंग कमेटी में फेरबदल और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को अहम जिम्मेदारी सौंपने पर भी विचार किया जा सकता है. इससे पहले कांग्रेस का चिंतन शिविर तीन साल पहले जनवरी, 2013 में जयपुर में आयोजित किया गया था. उस शिविर में राहुल गांधी को पार्टी उपाध्यक्ष बनाने पर मुहर लगी थी. पार्टी के अंदर राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने की मांग उठ रही है. इस लिहाज से कांग्रेस का अगला चिंतन शिविर काफी महत्वपूर्ण होगा.