नई दिल्ली. देश के 13 नए शहरों को फास्ट ट्रैक स्मार्ट सिटी के तौर पर विकसित करने का ऐलान कर दिया गया है. यह घोषणा शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने मंगलवार को की. इन 13 शहरों को फास्ट ट्रैक कंपीटीशन के आधार पर चुना गया है. इसमें बिहार, यूपी और झारखंड के एक-एक शहर को मौका मिला है. जहां लिस्ट में लखनऊ सबसे टॉप पर है. वहीं फरीदाबाद को सबसे अंतिम में स्थान मिला है.
 
ये हैं वो 13 स्मार्ट सिटी शहर
23 शहरों ने फास्ट ट्रैक स्मार्ट सिटी की दावेदारी पेश की थी जिसमें अभी 13 शहर ही क्वालिफाई कर पाए हैं. नायडू ने ट्विटर कर इन शहरों की लिस्ट जारी की है. 
 
नहीं होगी पानी की समस्या
यह घोषणा करते हुए नायडू ने कहा कि 500 शहरों का स्वच्छता सर्वे कराया जा रहा है. स्मार्ट सिटीज में पानी समस्या नही होगी. स्मार्ट सिटीजन भी इसमें भूमिका निभाएंगे. स्मार्ट सिटीज के बहाने नगर पालिकाएं क्षमता निर्माण कर रही हैं. पिछली सरकारों के जमाने में हुए कंस्ट्रक्शन पर निवेशकों का विवाद है. हम उन्हें भी नए कानून के तहत निपटाएंगे.
 
स्मार्ट सिटी पर खर्च
स्मार्ट सिटी के लिए चुने गए हर शहर को पहले साल 200 और उसके बाद चार साल के लिए हर साल 100 करोड़ रुपये मिलेंगे. केंद्र सरकार इस प्रोजेक्ट पर अगले पांच साल में 48 हजार करोड़ रुपये खर्च करेगी और इतनी ही रकम राज्य मिलकर खर्च करेंगे.
 
अब तक 33 शहरों का नाम शामिल
इसके पहले जनवरी में शहरी विकास मंत्रालय ने 20 शहरों को स्मार्ट सिटी की लिस्ट में शामिल किया था. आज के ऐलान के बाद अब देश में 33 शहरों को स्मार्ट सिटी के तौर पर विकसित करने के लिए चुन लिया गया है.
 
इस साल 27 और शहरों को मिलेगा मौका
इस साल 27 और शहरों को स्मार्ट सिटी में शामिल किया जाएगा. पटना, शिमला, न्यू रायपुर, अमरावती, बंगलुरु, तिरुवनंतपुरम, रायबरेली और मेरठ को भी प्रतियोगिता में शामिल करने का मौका दिया गया है.