पटना. पटना जिले में पुलिस थाने के सामने से पुलिस जीप चुराने का मामला सामने आया है. आपको बता दें कि जीप चुराने वाला कोई और नहीं बल्कि खुद जिले के एसएसपी मनु महाराज थे. चौंकिए मत, हम आपको बताते है इस घटना की हकीकत.
 
दरअसल पटना के एसएसपी मनु महाराज राज्य के सबसे सक्रिय पुलिस अधिकारियों में से एक हैं . बकौल मनु महाराज, शहर की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के लिए गुरुवार की रात करीब 11.30 बजे वो बाइक से निकले. एसएसपी ने अपने चेहरे को रुमाल से ढ़क लिया. 
 
गश्त के दौरान जब एसएसपी कोतवाली थाना पहुंचे, तो गेट पर संतरी नहीं दिखा. कोतवाली के बाहर एक पुलिस जीप खड़ी थी, जो ठीक तरीके से लॉक भी नहीं थी. इधर-उधर देखने के बाद उन्होंने बाइक की चाबी से जीप स्टार्ट की. हॉर्न बजाया, ताकि कोई थाने से बाहर तो आए. लेकिन ऐसा नहीं हुआ.  इसके बाद एसएसपी जीप लेकर शहर की सैर करने निकल पड़े.
 
लंबे इंतजार के बाद एसएसपी ने थानाध्यक्ष आरपी सिंह के मोबाइल पर फोन करके पूछा, कितनी गाड़ी है थाने में? जवाब मिला – सर, पांच. फिर पूछा – सब गाड़ी थाने पर है? थानाध्यक्ष ने थाने से संपर्क करने के बाद जवाब दिया – जी सर है. एसएसपी बोले, ठीक से देखिए, सब हैं ना? तब थाने में अफरातफरी मच गई. ढूंढने पर एक जीप कम दिखी. जीप के बारे में उसका चालक तरह-तरह के बहाने बनाता रहा. 
 
घटना के बाद एसएसपी ने कोतवाली में तैनात पुलिसकर्मियों को जमकर फटकार लगाई. एसएसपी ने लापरवाही बरतने वाले जीप के ड्राइवर और एक सैप जवान को बर्खास्त कर दिया है. जब पूरी घटना के बारे में एसएसपी मनु महाराज से पूछने पर उन्होंने बताया कि एक घटना केवल एक मॉक ड्रिल थीं. वो रात को बाइक से पुलिस विभाग की सजगता और सतर्कता देखने के लिए निकले थे.