नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली समेत उत्तर भारत में गर्मी का तांडव जारी है. पिछले कुछ दिनों से पड़ रही गर्मी ने लोगों को झुलसा कर रख दिया है. जिसे देखते हुए मौसम विभाग ने उत्तर भारत के कई राज्यों यूपी, हरियाणा, राजस्थान समेत राजधानी दिल्ली में अलर्ट जारी कर दिया है. इसके अलावा मौसम विभाग का साफ कहना है कि आने वाले कुछ दिनों में भी गर्मी का सितम यूं ही जारी रहने की संभावना है. बता दें कि दिल्ली में गुरुवार को अधिकतम तापमान 43 डिग्री दर्ज किया गया. जबकि न्यूनतम तापमान 28.6 डिग्री था. 
 
राजस्थान में पारा 51 डिग्री तक चढ़ा
 
राजस्थान के जालौर में कल 49.8 डिग्री तापमान था और यहां गर्मी से दो लोगों की मौत हो गई है. इसके अलावा राजस्थान का पलोधी इस मौसम का देश में अब तक सबसे गर्म जगह रहा जहां लगातार दूसरे दिन अधिकतम तापमान 51 डिग्री था. इसके बाद यह चुरू में 50.2, बीकानेर एवं बाड़मेर में 49.5, गंगानगर में 49.1, जैसलमेर में 49, कोटा में 48.2 और जयपुर में सर्वाधिक 46.5 डिग्री सेल्सियस तापमान था.
 
अहमदाबाद में 100 साल का रिकॉर्ड टूटा
 
अहमदाबाद में भीषण गर्मी ने 100 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया है. शहर में अधिकतम तापमान 48 डिग्री दर्ज किया गया है. अहमदाबाद में लू से अब चार लोगों की मौत हो चुकी है. इससे पहले अहमदाबाद में 27 मई, 1916 को 47.8 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया था.
 
हरियाणा में भी तापमान 46 डिग्री पहुंचा
 
वहीं हरियाणा के हिसार में अधिकतम तापमान 46 डिग्री दर्ज किया गया. पंजाब के अमृतसर में यह 43.8 डिग्री था. वहीं चंडीगढ़ में अधिकतम तापमान 43.1 डिग्री दर्ज किया गया.
 
गर्मी से पेंशन लेने पहुंची बुजुर्ग महिला की मौत
 
इसके अलावा मेवात के फिरोजपुर में गर्मी की वजह से एक महिला की मौत हो गई है. दरअसल 65 वर्षीय हाजरा नाम की एक महिला गुरुवार को मेवात के फिरोजपुर में मौजूद सिंडिकेट बैंक से बुढापा पेंशन लेने आई थी. इस दौरान सभी बुजुर्ग भीषण गर्मी की परवाह किए बिना अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे. कई घंटे की मशक्कत के बाद पेंशन तो हाजरा ने ले ली. लेकिन जब वह बाहर आने लगी तो गर्मी की वजह से उसको चक्कर आ गया और उसकी मौत हो गई.
 
दक्षिण में चक्रवाती तूफान रोनू
 
उत्तर भारत जहां एक ओर गर्मी से झुलस रहा है तो वहीं दक्षिण भारत में आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों में चक्रवाती तूफान रोनू के कारण भारी बारिश हुई. तेज हवा और भारी बारिश के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. वहीं मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने अधिकारियों को निर्देश जारी कर राहत एवं बचाव कार्य के लिए सभी जरूरी कदम उठाने को कहा है.