नई दिल्ली. कांग्रेस नेता राशिद अल्वी को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर टिप्पणी करना उस वक्त भारी पड़ा जब उन्होंने एक प्रोग्राम के दौरान नरेंद्र मोदी को गूगल सर्च के मुताबिक ‘मोस्ट स्टूपिड प्राइम मिनिस्टर’ बता दिया. उनके इस कमेंट पर वहां मौजूद लोग बुरी तरह भड़क गए. इसके अलावा इसी प्रोग्राम में स्मृति ईरानी भी मौजूद थीं. उन्होंने भी अल्वी को उनकी सोच और भाषा को लेकर खरी-खोटी सुनाते हुए कहा कि वह अपने शब्द वापस लें और माफी मांगे.
 
क्यों शुरू हुआ विवाद
मोदी सरकार के दो साल पूरे होने पर एक प्रोग्राम ऑर्गनाइज किया था. इसमें एचआरडी मिनिस्टर स्मृति के अलावा कांग्रेस लीडर अल्वी शामिल हुए थे. इसके अलावा सैकड़ों ऑडियंस भी मौजूद थे. इस दौरान अल्वी ने ईरानी से कहा कि गूगल सर्च में मोदी को सबसे स्टूपिड पीएम बताया जाता है. सरकार ने इस पर क्या किया? 
 
इस पर ईरानी जवाब देतीं इसके पहले ही ऑडियंस ने हंगामा कर दिया. अल्वी के खिलाफ ‘शर्म करो-शर्म करो’ के नारे लगाए जाने लगे. साथ ही ऑडियंस ने कहा कि अल्वी फौरन यहीं अपने बयान के लिए माफी मांगें.
 
स्मृति ईरानी का जवाब
स्मृति ईरानी ने जवाब देते हुए कहा कि कांग्रेस में जो लोग मोदी पर पत्थर उछालते हैं और गाली देते हैं वे चहेते होते हैं. उन्होंने कहा कि यहां मौजूद लोगों में सभी बीजेपी समर्थक नहीं हैं, लेकिन वो भी राशिद भाई की बात से खफा हैं.
 
‘लोग भूल जाते हैं,वह PM हैं’
स्मृति ईरानी ने कहा कि नरेंद्र मोदी के खिलाफ जहर सीमा पार कर चुका है और लोग भूल जाते हैं कि वह देश के प्रधानमंत्री हैं. उन्होंने कहा कि राशिद अगर देश के प्रधानमंत्री के लिए इस तरह के शब्द इस्तेमाल कर सकते हैं तो फिर उनसे महिलाओं को इज्जत देने की उम्मीद कैसे रखी जा सकती है?