सूरत. विश्व हिन्दू परिषद के नेता प्रवीण तोगड़िया के चचेरे भाई भरत तोगड़िया समेत तीन की सूरत में हत्या के मामले में पुलिस ने एक लेडी डॉन समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है.. इन चार आरोपियों के नाम रामू भरवाड़, इमरान शैयद उर्फ़ इमरान भरवाड, मेहुल भरवाड़ और चौथी आरोपी महिला का नाम कोमल गोयानी हैं. 
 
पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार की गई महिला कोमल गोयानी मुख्य आरोपी गौतम उर्फ गोल्डन गोयानी की बहन है . इस मामले में गोल्डन के पिता भी आरोपी हैं. पुलिस इंस्पेक्टर सी के पटेल ने कहा, ‘‘हमने रविवार की देर रात कामरेज के पास कोमल के घर से उसे गिरफ्तार किया और मुख्य आरोपी गोल्डन सहित चार अन्य की तलाश कर रहे हैं.’’
 
पटेल ने कहा कि तीन मृतकों में से एक बालू हिरानी को अमरेली जिले के बागासारा गांव में एक विवादित जमीन के सौदे के सिलसिले में कोमल को 50 लाख रूपए देने थे. उन्होंने कहा कि हिरानी पैसे देने में देरी कर रहा था और शायद हत्या इसी वजह से की गई.
 
कोमल गोयानी नाम की महिला जिसने इस हत्याकांड में मारे गए बालू भाई हिराणी की विवादित जमीन को अमरेली जिला के बगसरा में तैनात अपने एक तहसीलदार दोस्त के जरिए क्लियर करवा कर दी थी. विवादित जमीन का विवाद खत्म करने के एवज में कोमल गोयानी ने बालू भाई से 50 लाख रुपए की डिमांड की थी तो बालू भाई ने कोमल गोयानी को 50 लाख रुपए देने के हां भी कर दी थी मगर दिए नहीं थे.
 
कोमल नाम की इस महिला ने तिहरे हत्याकांड में मारे गए बालू भाई से 50 लाख रुपए वसूलने के लिए पिछले 15 दिन से हर संभव प्रयास किये थे मगर वो सफल नहीं हुई थी. अंत में बालू भाई के बारे में कोमल ने अपने पिता गणेश गोयानी और अपने भाई गौतम उर्फ गोल्डन से बात की थी.
 
कोमल के कहने पर उसका पिता गणेश और भाई गौतम ने जब बालू भाई से बात की थी तो उसने कोमल के पिता और भाई को सूरत जिला के शायण इलाके में शाम 4 बजे रुपए लेने के लिए बुलाया था मगर बालू भाई वहां रुपए देने नहीं पहुंचा था और फ़ोन भी बंद कर दिया था. कोमल ने अपने भाई  गौतम को कहा कि आज कैसे भी बालू भाई को ठिकाने लगा देना है फिर शाम को वही हुआ जो कोमल चाहती थी.