नई दिल्‍ली: गृह मंत्रालय में उप सचिव आनंद जोशी को पटियाला हाउस कोर्ट ने सोमवार को पांच दिन की सीबीआई हिरासत में भेजने का आदेश दिया है. इससे पहले सीबीआई ने रविवार को आंनद जोशी को गिरफ्तार किया था और देर रात तक उनसे पूछताछ की थी.
 
सीबीआई ने आनंद जोशी पर मुकदमा गृह मंत्रालय के निर्देश पर दर्ज किया है. पिछले हफ्ते सीबीआई ने जब उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया था, तो वो गायब हो गए थे. गाजियाबाद के इंदिरापुरम इलाके का अपना घर छोड़ने से पहले उन्होंने अपनी पत्नी मीनाक्षी को खत लिखा था. 
 
क्या लिखा था खत में
“पिछले कुछ महीनों से मैं काफी मानसिक तनाव से गुज़र रहा हूं, लेकिन अब पानी सिर के ऊपर से गुजर गया है. मैं शांति चाहता हूं इसलिए घर छोड़कर जा रहा हूं. मैं पूरी शिद्दत से देश सेवा कर रहा हूं. मुझे पता नहीं कि मेरे साथ ऐसा होगा. मैंने शायद बड़े-बड़े दुश्मन बना लिए हैं. मुझे खोजने की कोशिश मत करना. बच्चों का खयाल रखना.” 
 
CBI ने क्या लगाया आरोप
सीबीआई का आरोप है आनंद जोशी विदेशी चंदा नियमन कानून यानी एफसीआरए (FCRA) के मामलों से मिली जानकारियों का इस्तेमाल ब्लैकमेलिंग के लिए करते थे. इस बीच सीबीआई ने आनंद जोशी को परेशान किए जाने के आरोप से इनकार किया है. सीबीआई के मुताबिक ये रूटीन प्रक्रिया है और आनंद जोशी से अभी कोई पूछताछ नहीं हुई थी. सीबीआई ने आनंद जोशी के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज कर उनके घर पर छापेमारी की थी और साढ़े 7 लाख रुपये कैश के साथ गृहमंत्रालय की कुछ फाइलें और दस्तावेज बरामद किए थे.