मुंबई. मालेगांव ब्लास्ट केस में साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को बड़ी राहत मिली है. मामले की जांच कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने साध्वी को क्लीन चिद दे दी है. रिपोर्ट्स के मुताबिक एनआईए ने मुंबई की अदालत में दायर होने वाली चार्जशीट में साध्वी का नाम नहीं दिया है. ऐसे में माना जा रहा है उन्हें जल्द ही रिहाई मिल सकती है.
 
26/11 आतंकी हमलों में शहीद हुए महाराष्ट्र एटीएस के पूर्व चीफ हेमंत करकरे की मामले पर जांच को लेकर सवाल उठे हैं. जानकारी के अनुसार एनआईए की चार्जशीट में कहा गया है कि करकरे ने केस में जो जांच की उसमें खामियां थी. साथ ही कर्नल प्रसाद पुरोहित और दूसरे मुख्य आरोपियों के खिलाफ जो सबूत दिखाए गए वो मनगढंत थे और चश्मदीदों से दबाव में बयान दर्ज कराए गए थे.
 
एनआईए की चार्जशीट के मुताबिक, एटीएस ने साल 2008 में कर्नल पुरोहित की गिरफ्तारी से पहले देवलाली आर्मी कैंप स्थिति उनके क्वार्टर में विस्फोटक प्लांट किए थे. एनआईए के एक अधिकारी ने कहा कि हमारे पास यह साबित करने के लिए सूबत हैं कि एटीएस ने ही आरडीएक्स प्लांट किया था.